Indian-origin couple died due to electrocution in South Africa, had married a few days ago
Representative Photo

    राजेश मिश्र

    लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में तमाम दावों के बाद भी जहरीली शराब (Poisonous Liquor) से मौतों का सिलसिला थम नहीं रहा है। ताजा वाक्या अलीगढ़ जिले (Aligarh District) में जहरीली शराब पीने से अब तक आठ लोगों की मौत (Death) हो चुकी है। अभी कई लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। अलीगढ़ जिले में प्रभावित गांवों के लोगों का कहना है कि कुल 19 लोगों की मौत हुई है।

    अलीगढ़ जिले में गुरुवार शाम चार गांव के लोगों ने सरकारी ठेके से खरीदकर देसी शराब पी थी जिसके बाद लोगों की तबीयत बिगड़ी और पांच लोगों की मौके पर मौत हुई तो बाकी की अस्पताल में मृत्यु हो गयी। प्रदेश में बीते एक महीने में जहरीली शराब पीने से 32 लोगों की जान गई है। अलीगढ़ घटना में सभी प्रभावितों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस घटना से ग्रामीणों में आक्रोश है, जिसे देखते हुए पुलिस फोर्स को तैनात किया गया है।

    ठेकों को किया गया सील 

    घटना अलीगढ़ जिले करसुआ, निमाना, हैवतपुर और अंडला गांवों में हुई है। यहां जिला मुख्यालय से 10 किलोमीटर दूर आईओसी का गैस बाटलिंग प्लांट है। इसी के ठीक सामने करसुआ और अंडला गांवों में शराब के दो ठेके हैं। गुरुवार को लोगों ने इन्हीं ठेकों से शराब खरीदकर पी थी। प्रशासन ने शराब के इन दोनों ठेकों को सील कर दिया है और मामले की जांच शुरू कर दी है।

    उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब से मौतों के मामले बढ़े 

    गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में बीते कुछ महीनों में जहरीली शराब से मौतों के मामले बढ़े हैं। इसी महीने अंबेडकर नगर, आजमगढ़ और बदायूं में जहरीली शराब पीने की वजह से 24 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। इसमें सबसे ज्यादा 16 मौतें अंबेडकरनगर में हुई थीं। राजधानी लखनऊ के मलीहाबाद इलाके और पड़ोसी जिले बाराबंकी में भी बीते साल जहरीली शराब के सेवन से दर्जनों लोगों की मौत हो गयी थी।

    रासुका के तहत कार्रवाई करने के निर्देश

    अलीगढ़ के पुलिस महानिरीक्षक दीपक कुमार ने बताया कि मिश्रित शराब पीने से 8 लोगों को मौत हुई है और 2-3 लोगों का अस्पताल में इलाज हो रहा है। उन्होंने कहा कि जहरीली शराब बेंचने वालों पर रासुका लगायी जाएगी। मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ ने जहरीली शराब पीने से मौत के मामले में आबकारी और गृह विभाग के अधिकारियों को तलब किया है। उन्होंने सभी दोषियों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। इस मामले में दोषियों की संपत्ति जब्त कर नीलामी करने और उससे मृतकों के परिजनों को मुआवजा देने के लिए कहा गया है। 

    मजिस्ट्रेट जांच के आदेश

    अलीगढ़ के जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह ने शराब से हुई मौतों के मामले में मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने बताया कि  एडीएम प्रशासन इस मामले की जांच करेंगे।