Population control is the primary condition for the progress of society: Yogi Adityanath

    लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में नई मंत्रिपरिषद वास्तव में पूरे भारत का प्रतिनिधित्व है। योगी ने अपने टिवट में कहा, ”आदरणीय प्रधानमंत्री मोदी जी का नया मंत्रिमंडल वास्तव में संपूर्ण भारत का प्रतिनिधित्व करता है। हमारे महापुरुषों ने, खासकर बाबा साहब और लोहिया जी जैसे चिंतकों ने देश में जिस जनप्रतिनिधित्व और जनभागीदारी की कल्पना की थी, आदरणीय मोदी जी के नेतृत्व में वो सरकार से लेकर समाज तक साकार हो रही है।” 

    उन्होंने अपने दूसरे टिवट में कहा, ”लोहिया जी का मानना था कि पिछड़ों को शक्ति देकर ही परिपक्व लोकतंत्र संभव है। प्रधानमंत्री जी ने ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया और ओबीसी नेतृत्व को मंत्रिमंडल में बड़ी भागीदारी देकर देश की जिम्मेदारी भी दी है। लोहिया जी आज होते तो अपने विचार बीज को फलित होते देख हर्ष से भरे होते।” 

    आदित्यनाथ ने कहा, ”आज जब देश इतने बड़े सार्थक और सकारात्मक सामाजिक बदलाव का साक्षी बन रहा है, दुर्भाग्य से कुछ लोग इसमें भी राजनैतिक विरोध कर रहे हैं। ऐसे लोगों को लोहिया जी ने कहा था- “सामाजिक परिवर्तन के बड़े काम जब प्रारंभ होते हैं तो कुछ लोग आवेश में इसका विरोध करते हैं”।” 

    मुख्यमंत्री ने एक अन्य टिवट में कहा, ”ये वही लोग हैं जिन्होंने ओबीसी आयोग के गठन का भी विरोध किया था और जिन्होंने बाबा साहब अम्बेडकर को भी अपमानित किया था। इन लोगों ने कभी भी आचार व्यवहार में डॉक्टर लोहिया के एक भी सिद्धांत का पालन नहीं किया।” 

    उन्होंने कहा, ”आशा है, आज बाबा साहब और लोहिया जी को मानने वाले आवेश या राजनैतिक स्वार्थ की जगह इस बात को स्वीकार करेंगे कि आदरणीय मोदी जी का ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ का मंत्र संविधान की आत्मा को सच्चे अर्थों में चरितार्थ कर रहा है। हम सब इसके लिए प्रधानमंत्री जी के आभारी हैं।” (एजेंसी)