Akhilesh_Yadav

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार को राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार की ‘कलाकारी’ का परिणाम राज्य की जनता भुगत रही है और उसके सब्र का बांध टूट रहा है। अखिलेश यादव ने एक बयान में कहा कि जनता को सिर्फ 2022 के विधानसभा चुनाव का इंतजार है, जब वह भाजपा नेताओं से उनके वादों का हिसाब लेगी।

सपा नेता ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि आंकड़ों की मानें तो प्रदेश में रोजगार जगह-जगह बिखरा हुआ है लेकिन रेत से तेल निकालने की कहावत पूरी तरह चरितार्थ हो रही है। पूर्व मुख्‍यमंत्री ने आरोप लगाया, ”हवाई पुल बांधने में भाजपा का कोई जवाब नहीं है। किसान, नौजवान सब परेशान हैं और सरकार के चार वर्ष होने को हैं किंतु अभी तक जनता को कोई अपेक्षित परिणाम हासिल नहीं हो सका है, फिर भी… वे अपनी खोखली उपलब्धियों का ढिंढोरा पीटते जाते हैं और इसे ही ढिंढोरची सरकार कहते हैं।”

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान जब रोज़गार बंद हो गए थे, फैक्ट्रियों में छंटनी हो रही थी और लोग अपनी जान बचाने के लिए सिर पर गठरी लादे, मासूम बच्चों और गर्भवती महिलाओं के साथ पैदल रिक्शा, साइकिल या अन्य साधनों से पलायन कर रहे थे, तब भी ‘आपदा में अवसर’ का खूब बहाना चला। उन्होंने आरोप लगाया कि अभी हालात पूरी तरह ठीक नहीं हुए हैं, तब भी 1.9 करोड़ रोज़गार के सृजन के हवा-हवाई दावे किए जा रहे हैं।

उन्‍होंने कहा कि यह ‘लोकतंत्र में निर्लज्जता’ की पराकाष्ठा है। अखिलेश ने कहा कि खुद सरकार के आंकड़ों पर ही विश्वास किया जाए तो शैक्षिक संस्थाओं, मेडिकल संस्थानों और सरकारी विभागों में लाखों पद रिक्त हैं। नौकरियों में भर्ती पर विवाद थम नहीं रहे हैं। उन्‍होंने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार जनता, खासकर नौजवानों को ‘ठगने’ के लिए बड़े-बड़े विज्ञापनों पर सरकारी धन खर्च कर अपनी नाकामयाबी छुपाने का प्रयास कर रही है। (एजेंसी)