कोरोना के चलते छह माह की बंदी के बाद खुला ताज, उमड़ी भीड़

– राजेश मिश्र

लखनऊ: कोरोना महामारी के चलते बीते छह महीनों से बंद चल रहे ताजमहल और आगरा के किले को सोमवार को जनता के लिए खोल दिया गया है. दुनिया भर में मोहब्बत की निशानी के तौर पर माने जाने वाले ताज के दर्शन को पहले ही दिन पर्यटकों की भारी भीड़ उमड़ी. हालांकि, महामारी के चलते एक दिन में केवल 5000 लोगों को ही ताज के दीदार की अनुमित दी गयी है. खुलते ही अगले चार दिनों के लिए ताज के सभी टिकट की बुकिंग फुल हो गयी है.

इसके साथ ही उत्तर प्रदेश की कई अन्य ऐतहासिक इमारतों को सोमवार से पर्यटकों के लिए खोल दिया गया. इस साल 17 मार्च से बंद चल रहे ताजमहल और आगरा के मशहूर किले को 188 दिन बाद दर्शकों के लिए खोला गया है. आगरा में फोर्ट और ताजमहल में दर्शकों की आवाजाही शुरु होने के बाद शहर के पर्यटन उद्योग में फिर से तेजी आएगी. सोमवार से लखनऊ में इमामबाड़ा और भूलभुलैय्या को भी पर्यटकों के लिए खोला गया है.

कोविड प्रोटोकाल के मुताबिक, ताजमहल के दर्शकों को ऑनलाइन टिकट लेकर ही इंट्री दिए जाने और एक दिन में केवल 5000 लोगों की इजाज़त दी गयी है. सोमवार को खुलते ही अगले चार दिनों के लिए ताजमहल के सारे प्रवेश टिकट बिक गए हैं. नयी व्यवस्था के अनुसार, ताजमहल या आगरा किले में प्रवेश से पहले हर पर्यटक थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है. फिलहाल ताजमहल में रोजाना 5,000 और आगरा किले में एक दिन में केवल 2,500 दर्शकों को ही प्रवेश दिया जा रहा है. भारतीय पर्यटकों के लिए टिकट का दाम 50 रुपये और विदेशियों को इसके लिए 1100 रुपये का भुगतान करना पड़ रहा है.

ताजमहल के अंदर शाहजहां और मुमताज़ महल की कब्रों तक जाने के लिए 200 रुपये का टिकट अलग से खरीदना होगा. पार्किंग समेत सभी पेमेंट डिजिटल मोड में करने होंगे. ताज के दीदार के लिए टिकट एएसआई की वेबसाइट से ऑनलाइन टिकट बुक करना होगा. लोगों की भीड़ न लगे इसलिए टिकट विंडो बंद रखा गया है. इसके अलावा क्यूआर कोड स्कैन करके भी टिकट लिया जा सकता है. वहीँ मुमताज महल के कब्र वाले कमरे तक केवल 5 लोगों को ही एंट्री मिलेगी.

गौरतलब है कि, पहली बार हुआ है जब ताजमहल को इतने ज्यादा दिनों तक बंद रखा गया हो. पहली बार साल 1971 में भारत-पाकिस्तान जंग के दौरान ताजमहल 15 दिन के लिए बंद रहा था. इसके बाद 1978 में यमुना में आई बाढ़ की वजह से 7 दिनों के लिए इस विश्व अजूबे को बंद किया गया था. फिलहाल कोरोना की वजह से 6 महीने बंद ताज के खुलने के बाद सबसे पहले चीनी पर्यटक ने दीदार किया.