File Photo
File Photo

नोएडा. गाजियाबाद में हवा की गुणवत्ता खराब होकर नौ दिनों के बाद मंगलवार को “गंभीर” श्रेणी में पहुंच गई, जबकि यह नोएडा, ग्रेटर नोएडा और फरीदाबाद में “बहुत खराब” श्रेणी में और गुड़गांव में “खराब” श्रेणी में बनी रही। एक सरकारी एजेंसी द्वारा जारी आंकड़ों से यह जानकारी मिली।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) द्वारा तैयार किए गए वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के पांच शहरों में हवा में प्रदूषक तत्वों पीएम 2.5 और पीएम 10 की मौजूदगी अधिक रही।

गौरतलब है कि शून्य और 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बहुत खराब’ और 401 और 500 ‘गंभीर’ माना जाता है।

सीपीसीबी के समीर ऐप के अनुसार, 24 घंटे का औसत एक्यूआई मंगलवार की शाम 4:00 बजे गाजियाबाद में 428, नोएडा में 396, ग्रेटर नोएडा में 382, ​​फरीदाबाद में 360 और गुड़गांव में 296 था। सोमवार को गाजियाबाद में यह 365, नोएडा में 301, ग्रेटर नोएडा में 286, गुड़गांव में 285 और फरीदाबाद में 272 था।

रविवार को यह गाजियाबाद में 288, नोएडा में 273, ग्रेटर नोएडा में 270 और गुड़गांव में 242 था। गाजियाबाद का औसत एक्यूआई पिछली बार दिवाली के एक दिन बाद 15 नवंबर को “गंभीर” श्रेणी में आ गया था, जब अन्य जिलों में भी हवा खराब स्तर पर पहुंच गई थी।