Dadri police arrested the prize crook

नोएडा (उत्तर प्रदेश).  गौतबुद्ध नगर जिला पुलिस ने शनिवार को संक्षिप्त मुठभेड़ के बाद तीन तस्करों को गिरफ्तार कर विशाखापट्टनम से गांजा लाकर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में बेचने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश किया और उनके कब्जे से 300 किलोग्राम मादक पदार्थ बरामद किया। पुलिस ने बताया कि शनिवार देर रात वाहन जांच के दौरान जारचा थाना पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में तीनों तस्करों को पैरों में गोली लगी है, उन्हें इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

उनसे बरामद 300 किलोग्राम गांजा की कीमत करीब 30 लाख रुपये आंकी गई है। पुलिस उपायुक्त (जोन तृतीय) राजेश कुमार सिंह ने बताया कि थाना जारचा पुलिस को सूचना मिली कि एक अंतर्राज्यीय गाजा तस्कर गिरोह के कुछ सदस्य विशाखापट्टनम से एक डीसीएम कैंटर में गाजा भर कर गाजियाबाद में बेचने के लिए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि उनकी तलाश में ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे के एनटीपीसी रोड के पास पुलिस ने वाहनों की जांच शुरू की, इस दौरान दल ने एक डीसीएम कैंटर को रुकने का इशारा किया। उन्होंने बताया कि पुलिस को देखने के बावजूद कैंटर नहीं रूका और उन्होंने सुरक्षा बलों पर गोलियां चला दीं।

उन्होंने बताया कि जवाबी कार्रवाई करते हुए पुलिस ने भी गोली चलाई, तथा पीछा करके कैंटर को रुकवा लिया। पुलिस द्वारा चलाई गई गोली कैंटर में सवार गांजा तस्करों मोनू ,प्रमोद तथा उमेद के पैरों में लगी है। उन्होंने बताया कि तीनों को गंभीर हालत में उपचार के लिए नोएडा के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। डीसीपी ने बताया कि तीनों के पास से डीसीएम कैंटर में रखा 300 किलोग्राम गांजा बरामद हुआ है। उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान गिरफ्तार आरोपियों ने पुलिस को बताया है कि वे लोग विशाखापट्टनम से गाजा लाकर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में बेचते हैं। उन्होंने बताया कि इन आरोपियों ने पुलिस को बताया है कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में स्थित कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को भी ये लोग मादक पदार्थ बेचते हैं। पुलिस इस मामले में आगे की कार्रवाई कर रही है।