Chandrashekhar Azad

नोएडा. भीम आर्मी (Bhim Army) के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) और संगठन की दिल्ली इकाई के प्रमुख हिमांशु वाल्मीकि को उत्तर प्रदेश पुलिस ने उस वक्त हिरासत में ले लिया जब वे हाथरस (Hathras Rape Case) सामूहिक बलात्कार की घटना में जान गंवाने वाली लड़की के परिजनों के साथ हाथरस जा रहे थे। आजाद के सहयोगियों ने बुधवार को यह आरोप लगाया। वहीं, पुलिस ने इस मामले की कोई पुष्टि नहीं की है।

आजाद समाज पार्टी के पदाधिकारियों के अनुसार आजाद और वाल्मीकि मंगलवार रात 10 बजे के बाद से लापता हैं और उस वक्त वे हाथरस सामूहिक बलात्कार की घटना में जान गंवाने वाली लड़की के परिजनों के साथ हाथरस जा रहे थे। लड़की की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मंगलवार को मौत हो गई थी। सामूहिक बलात्कार की शिकार लड़की और उसके परिवार को न्याय दिलाने की मांग को लेकर आजाद समाज पार्टी और दलित समर्थक संगठन भीम आर्मी से जुड़े लोगों ने मंगलवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया था।

आजाद समाज पार्टी की कोर समिति के सदस्य रविंद्र भाटी ने कहा, ‘‘जेवर टोल प्लाजा पर पहुंचने के बाद से आजाद और वाल्मीकि का कुछ अता-पता नहीं है।” उन्होंने आरोप लगाया कि रात के समय आजाद तथा वाल्मीकि को हिरासत में ले लिया गया, लेकिन पुलिस इसे सार्वजनिक नहीं कर रही है। वहीं, हाथरस में सामूहिक बलात्कार की शिकार हुई लड़की के परिवार ने बुधवार को आरोप लगाया कि पुलिस ने रात में “जबरन” उनकी बच्ची का अंतिम संस्कार करा दिया। स्थानीय पुलिस अधिकारियों ने हालांकि ‘पीटीआई- भाषा’ से कहा कि अंतिम संस्कार ‘‘परिवार की इच्छानुसार” किया गया।