योगी ने किया कैलाश मानसरोवर भवन का उदघाटन, कहा- धार्मिक केंद्र आस्था के साथ रोजगार और पर्यटन का जरिया

गाज़ियाबाद: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Aditynath) ने शनिवार को गाज़ियाबाद (Gaziabad) में निर्मित बहुप्रतीक्षित कैलाश मानसरोवर भवन (Kailash Maansarovar Bhawan) जनता को समर्पित कर दिया। इस दौरान आयोजित सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “हमने धर्मार्थ कार्य विभाग के महानिदेशक का गठन किया है क्योंकि हमारे यह धार्मिक केंद्र श्रद्धा का केंद्र होने के साथ ही पर्यटन और रोजगार के बड़े माध्यम हैं।”

मुख्यमंत्री योगी ने कहा, “कैलाश मानसरोवर भवन का शिलान्यास वर्ष 2017 में हुआ था। आज इस भवन को लोकार्पित कर आपको सौंपते हुए मुझे गौरव की अनुभूति हो रही है। मैं आप सबको हृदय से बधाई और शुभकामनाएं देता हूं।”

श्रद्धालुओं को 50 हजार की जगह 1 लाख दिए जाएंगे  

योगी ने कहा, “कैलाश मानसरोवर भवन बनाने की मांग यहां के जनप्रतिनिधियों ने शासन के सामने रखी थी। कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुभारंभ कार्यक्रम के समय फैसला किया गया कि यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं को 50 हजार की जगह 1 लाख दिए जाएंगे, तो उस समय बात हुई कि यहां एक भवन भी बनना चाहिए।”

कार्य करेंगे वह नियमों का पालन करते हुए ही करेंगे

मुख्यमंत्री ने कहा, “गाजियाबाद में कैलाश मानसरोवर निर्माण के लिए हमने जमीन की भी कीमत दी है। आज हम यह भव्य भवन उन सभी श्रद्धालुओं को समर्पित करते हैं जो कैलाश मानसरोवर से लेकर सिंधु दर्शन, बद्रीनाथ, केदारनाथ जी, गंगोत्री और यमुनोत्री जी के दर्शन के लिए जाना चाहते हैं।”

उन्होंने कहा, “मैं जानता हूं कि हम लोग जो भी कार्य करेंगे वह नियमों का पालन करते हुए ही करेंगे। पहले वाली भूमि पर NGT ने आपत्ति की, तो यह फैसला लिया गया कि उसे खारिज कर भवन ऐसे स्थान पर बनाएंगे, जहां शासन ज़मीन को क्रय करेगा और भूमि उस भवन के नाम पर ही होगी।”