सुबह उठते ही गलती से भी ना देखें ये चीजें, पूरा दिन हो सकता है खराब

    -सीमा कुमारी 

    कहते हैं कि अगर दिन की शुरुआत अच्छी चीजों को देखकर हो तो व्यक्ति का पूरा दिन अच्छा बीतता है। लेकिन कुछ गलत दिख जाएं, तो पूरा दिन खराब हो जाता है। कई बार जब कभी कुछ काम बिगड़ जाए तो यह भी कहते सुना होगा कि सुबह किसका चेहरा देखकर उठे थे। ज्योतिषों के अनुसार,दिन की बेहतर शुरुआत के लिए कुछ नियम बनाने जरूरी होते हैं. अगर इन नियमों का पालन किया जाए तो व्यक्ति के जीवन में सफलता और खुशहाली बनी रहती है. वहीं,इन नियमों का पालन न करने पर मनुष्य का जीवन चिंताओं से घिर जाता है। ऐसे में आइए जानें  पंडित कमल नंदलाल से कि वास्तु के अनुसार, वो कौन से काम हैं, जो सुबह उठकर नहीं करने चाहिए…

    • पंडित कमल नंदलाल के अनुसार, आमतौर पर कुछ लोग अपने पालतू जानवरों को साथ सुला लेते हैं, और सुबह उठते ही उसका मुंह देख लेते हैं। क्या कभी आपने सोचा है कि बच्चों के या आपके जीवन पर इन सब कार्यों का क्या असर  पड़ सकता है |वास्तु शास्त्र के मुताबिक , कई ऐसे कार्य होते हैं जो सुबह उठकर नहीं करने चाहिए। बहुत सी ऐसी चीजें होती हैं, जिसे सुबह उठकर वास्तु के अनुसार देखना वर्जित माना जाता है। इसलिए ऐसा बिलकुल भी ना करें।
    • सुबह कभी झूठे बर्तन नहीं देखने चाहिए. इसलिए वास्तु के अनुसार कहा जाता है कि रात को सारे बर्तन साफ करके रखने चाहिए।
    • वास्तु के मुताबिक, सुबह उठते ही अपने हथेलियों के दर्शन करें, क्योंकि, हाथ के हथेलियों में घनश्याम, सरस्वती और माता लक्ष्मी का वास होता है। हथेलियों को ही कमल कहते हैं। सुबह उठते ही सबसे पहले हथेलियों के दर्शन करें। अब भगवान का नाम लेकर हथेलियों को चेहरे पर मल लें। फिर अपने दिन की नई शुरुआत के लिए प्रार्थना करें। इसके बाद पानी  पिएं और सूर्य के दर्शन करें। सूर्योदय से पहले उठने वाले लोग अगर चंद्रमा निकला हुआ है तो उसके दर्शन कर सकते हैं।
    • वास्तु शास्त्र की मानें, तो कुछ लोगों को सुबह उठते ही अपने चेहरे को आइने में देखने की आदत होती है।जबकि ऐसा करना अशुभ माना जाता है। इसलिए ऐसा करने से बचें।
    • कहते हैं कि, जानवरों के फोटो भी नहीं देखने चाहिए। ऐसा करने पर दिनभर विवाद और उलझनों बना रहता है। इसलिए अपने कमरे में जानवरों के फोटो न लगाएं।
    • सुबह-सुबह ऐसे तस्वीर देखें जो कि आपके मन में सकारात्मक प्रभाव डालें। जैसे नारियल, शंख, मोर, हंस या फूल आदि।