काठमांडू (नेपाल): चीन (China) के नेपाल (Nepal) की जमीन (Land) पर कब्जा करने को लेकर 'नेशनल यूनिटी मूवमेंट' (National Unity Movement) के लोगों ने चीन के खिलाफ काठमांडू (Kathmandu) स्थित सर्वे विभाग के सामने प्रोटेस्ट (Protest) किया। प्रोटेस्ट में नेपाल सरकार (Nepal Government) से चीन के सीमावर्ती इलाकों में जीपीएस (GPS) आधारित निगरानी की मांग की गई और सरकार से चीन द्वारा जमीन पर कब्ज़ा नहीं करने के सुबूत मांगे। पिछले साल, 23 सितंबर को नेपाल के विदेश मंत्रालय ने चीन द्वारा भूमि अतिक्रमण के मुद्दे पर एक स्पष्टीकरण जारी किया था जिसमें नेपाल की जमीन पर अवैध निर्माण की मीडिया रिपोर्टों को डाउनग्रेड किया था। चीन द्वारा भूमि अतिक्रमण की रिपोर्टों को "गलत" कहने के बावजूद सरकार की 19-सदस्यीय टीम 30 सितंबर को विवादित स्थल पर गई थी। नेपाल के हुमला जिले से निर्वाचित जीवन बहादुर शाही (Jeevan Bahadur Shahi) ने इस स्थल का दौरा किया था और आरोप लगाया कि चीन ने नेपाली भूमि में अतिक्रमण किया है और बुनियादी ढांचे का निर्माण किया है।