ढाबे वाले बाबा का बंद हुआ नया रेस्टोरेंट, लौटे अपनी पुरानी जिंदगी में, जानें वजह

    किस्मत का खेल आज तक कोई समझ नहीं पाया है। यह कब किसी को राजा बना दे और किसी को राजा से रंक। कुछ ऐसा ही हुआ था पिछले साल दक्षिणी दिल्ली के मालवीय नगर इलाके में बाबा का ढाबा (Baba Ka Dhaba) चलाने वाले 81 साल के कांता प्रसाद और उनकी पत्नी बादामी देवी के साथ। इनका वीडियो वायरल होने के बाद इनकी किस्मत ही खुल गई। इनका वीडियो ट्विटर पर टॉप ट्रेंड कर रहा था। साथ ही लोग उनके ढाबे पर खाना खाने के लिए लाइन भी लगाने लगे थे। इसके अलावा उन्हें बहुत सी जगहों पर आर्थिक मदद भी मिली थी। मिले पैसों से कांता प्रसाद (Kanta Prasad) ने रेस्टोरेंट भी खोला था। लेकिन अब वह रेस्टोरेंट लॉकडाउन की वजह से बंद हो गया है। जिसके कारण अब वह अपनी पुरानी जगह वापस लौट आए हैं। 

    हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, कांता प्रसाद का रेस्टोरेंट फरवरी में बंद हो गया है। जिसकी वजह से अब वह ढाबे पर लौट आए हैं। लेकिन, उनकी कमाई पहले जैसी नहीं हो पा रही है। बता दें कि बीते साल उनका वीडियो वायरल होने के बाद उनकी कमाई 10 गुना बढ़ गई थी। साथ ही वह इंटरनेट पर फेमस भी हो गए थे। 

    कांता प्रसाद बताते हैं कि कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से 17 दिनों के लिए अपने पुराने ढाबे को बंद करना पड़ा, जिससे बिक्री काफी प्रभावित भी हुई है और उन्हें फिर से गरीबी का सामना करना पड़ा है। कांता प्रसाद के अनुसार, वीडियो वायरल होने के बाद उनकी दैनिक बिक्री 3,500 रुपये थी, लेकिन लॉकडाउन की वजह से अब यह 1,000 रुपये हो गई है। जो उनके परिवार के लिए पर्याप्त नहीं है।’

    बीते साल बाबा का ढाबा को लाख रुपये की आर्थिक मदद मिली थी। जिससे उन्होंने एक नया रेस्टोरेंट खोला, अपने घर में एक नई मंजिल जोड़ी, पुराना कर्ज चुकाया, खुद के लिए और अपने बच्चों के लिए स्मार्टफोन खरीदे थे। लेकिन, वर्तमान में अब इस ढाबे में चावल, दाल और दो प्रकार की सब्जियां मिल रही हैं।