काला चावल, काला मुर्गा और अब काला अमरूद भी, देखें Photos

    भागलपुर. हम सभी ने काले चावलों, काले कड़कनाथ मुर्गे के बारे में काफी सुना है और देखा भी है। अब काले रंग के अमरूद भी कुछ अर्से बाद बाजारों में बिकने के लिए आ सकते हैं। इसके एंटी-एजिंग फैक्टर और रोग प्रतिरोधक क्षमता सामान्य फलों से ज्यादा होने की वजह से लोग इसे पसंद करेंगे।

    black rice farming in chandauli again a fake praise from PM

     

    अंदर लाल गूदे के साथ काले अमरूद की इस विशेष किस्म में एंटीऑक्सिडेंट, मिनरल्स और विटामिन से भरपूर होने का दावा किया जा रहा है। भागलपुर में पहली बार काले अमरूद का उत्पादन शुरू हुआ है। बिहार कृषि विश्वविद्यालय में इसे विकसित किया गया है। इसके आकार, सुगंध में कुछ सुधार के बाद जल्द ही इसे व्यावसायिक खेती के लिए लॉन्च किए जाने की संभावना है।   

    कई विटामिनों से भरपूर 

    100 ग्राम अमरूद में लगभग 250 मिलीग्राम विटामिन-सी, विटामिन-ए और बी, कैल्शियम और आयरन के अलावा अन्य मल्टीविटामिन और मिनरल्स होते हैं। कुछ मात्रा में प्रोटीन और दूसरे फायदेमंद तत्व भी शामिल हैं। इस फल से लोगों के ‘एंटीएजिंग’ पर असर पड़ेगा। ये अमरूद अगस्त के अंत तक या फिर सितंबर तक पूरी तरह से पक जाएगा। इस अमरूद के व्यवसायिक उपयोग होने के बाद इसका लाभ किसानों को भी मिल सकेगा। यही कारण है कि बीएयू अब इस शोध में जुट गया है कि कैसे इस पौधे को आम किसान इस्तेमाल में लाएं। 

     Kadaknath Cock Is Sold Up To Rs 1500 Per Kg Know Its Specialty Here -  कड़कनाथ मुर्गा: क्यों है इसकी इतनी मांग, कीमत से लेकर खासियत तक, यहां जानें  सबकुछ - Amar