Image: VK.Com
Image: VK.Com

    रूस. माँ बच्चों के लिए किसी भगवान से कम नहीं होती हैं। वह अपने बच्चों के लिए पूरी ज़िंदगी कई तरह की कुर्बानी देती हैं और अपनी ज़िंदगी उनके नाम कर देती हैं। माँ (Mother) हर बच्चे (Children) के लिए बहुत महत्वपूर्ण (Important) होती हैं और उन्हें हर मुश्किलों से बचाती हैं। लेकिन, रूस (Russia) की एक 25 वर्षीय महिला ने अपने बच्चों के साथ ऐसा कुछ किया, जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। वेबसाइट मिरर की रिपोर्ट की मानें तो दोस्तों के साथ दारू पार्टी (Liquor Party) करने के लिए इस महिला ने अपने 11 माह के मासूम बेटे और तीन साल की बेटी को घर में बंद कर दिया था। फिर चार दिन तक वह बच्चे भूख से तड़पते रहे और बेटे ने पालने में दम तोड़ दिया। जबकि बेटी को अस्पताल पहुंचाया गया। 

    रूस के ज्लाटा उस्ट की रहने वाली 25 वर्षीय महिला ओल्गा बाजरोवा अपने पति से अलग रहती हैं। उन्होंने पार्टी करने के लिए अपने बच्चों को 4 दिन के लिए कमरे में बंद कर उन्हें मौत के मुंह में धकेल दिया। इस दौरान ओल्गा ने बच्चों के बारे में कोई जानकारी नहीं ली और न ही उनका हाल जानने की कोशिश की। फिर जब वह पार्टी करने के बाद घर लौटी, तो पाया कि 11 महीने का बेटा भूख और प्यास की वजह से मर चुका था, जबकि तीन साल की बेटी भी बेहद कमजोर और डरी हुई थी। घर जाने के दौरान ओल्गा ने बच्चों की दादी से संपर्क किया था। जब दादी जब घर पहुंची, तो उन्होंने पुलिस को इस मामले की सूचना दी। पुलिस ने तुरंत ओल्गा को गिरफ्तार कर लिया और 3 साल की बेटी को अस्पताल में भर्ती करवाया। 

    रूस के ज़्लाटौस्ट शहर की एक अदालत ने इस मामले में सुनवाई कर ओल्गा बजरोवा को अत्यधिक क्रूरता के साथ की गई नाबालिग की हत्या का दोषी पाया और अपनी बेटी को खतरे में छोड़कर मां के कर्तव्यों को पूरा न करने में दोषी पाया। हालांकि, बजारोवा ने अदालत में “पश्चाताप” किया और कहा कि उसे अपने बच्चों को छोड़ने का “पछतावा” है, लेकिन उसका ऐसा कोई इरादा नहीं था कि वह अपने बच्चों को मार डाले। अदालत ने बजारोवा को 14 साल की सजा सुनाते हुए, उसे माता-पिता के अधिकारों को छीन लिया है।