(प्रतीकात्मक-तस्वीर)
(प्रतीकात्मक-तस्वीर)

    गुजरात : अक्सर हमने देखा है कि जो इंसान गुनाह करता है उसके खिलाफ थाने में पुलिस शिकायत दर्ज करती  है। लेकिन जिस मामले की हम बात कर रहे है, वो इससे काफी अलग है। जी हां गुजरात के एक जिले से ऐसी अजीबोगरीब घटना सामने आयी है जिसे सुन कर आप हैरान रह जायेंगे। 

    जान बचाने शख्स पहुंचा थाना  

    गुजरात के पंचमहल स्थित  जंबूघोड़ा  थाने में एक शख्स रविवार को ऐसी शिकायत लेकर पहुंचा जिसे सुनकर पुलिसकर्मी भी दंग रह गए। शिकायत करने वाला शख्स डर से थर-थर कांप रहा था। पुलिस ने शख्स की शिकायत पर दो भूतों के खिलाफ मामला दर्ज करते हुए अपनी जांच शुरू कर दी है। 35 वर्षीय शख्स ने पुलिस को बताया कि उसका सामना भूतों के एक ‘गिरोह’ से हुआ, जिसमें से दो ने उसे जान से मारने की धमकी दी है। पीड़ित ने पुलिस से अपनी जान बचाने की गुहार लगाई है। 

    शख्स को शांत करने के लिये पुलिस को दर्ज करनी पड़ी शिकायत

     पीड़ित शख्स को इतना बेचैन देख कर उसे शांत करने के लिए पुलिस को भूतों के खिलाफ शिकायत दर्ज करनी पड़ी। अजीबोगरीब अनुरोध के बावजूद, पुलिस ने उस व्यक्ति को और अधिक संकट से बचाने के लिए पर्याप्त सहायता की। पीड़ित शख्स मानसिक रूप से परेशान लग रहा था और पुलिस ने उसके आवेदन को स्वीकार कर लिया। पुलिस सब-इंस्पेक्टर के नाम पर लिखी अपनी शिकायत में शख्स ने बताया कि कैसे भूतों का एक गिरोह उसके पास आया था, जब वह अपने खेत में काम कर रहा था।

    परिवार ने बताई असलियत

    जिस तरह से हम इस मामले को देख रहे है। दरअसल ये मामला इससे काफी अलग है। जी हां पीएसआई मयंक सिंह ठाकुर, जो पावागढ़ में ड्यूटी पर थे उन्होंने टीओआई को बताया, ‘वह बहुत उत्तेजित था। यह स्पष्ट था कि वह असामान्य व्यवहार कर रहा था। हमने उसका आवेदन लिया और उसे शांत करने में मदद की।’ पुलिस ने पीड़ित के परिवार से भी संपर्क किया, जिसने खुलासा किया कि वह व्यक्ति मानसिक उपचार से गुजर रहा था और उसने पिछले 10 दिनों से अपनी दवा नहीं ली थी।

    पीड़ित है मानसिक रूप से बीमार 

    सोमवार को जब पुलिस ने उससे दोबारा बात की, तो उसने पीएसआई को बताया कि वह पुलिस स्टेशन भाग गया क्योंकि उसे लगा कि भूत उसे वहां परेशान करने की हिम्मत नहीं करेंगे। ऐसा वो इसलिए सोचता है क्योकि वह मानसिक रूप से बीमार है और उसके बिमारी का इलाज शुरू है। 

    लेकिन बात यह है की पिछले 10 दिनों से शख्स ने अपनी दवाई नहीं खाई थी, इस कारण वह  पुलिस ने उसके परिवार को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि वह नियमित रूप से अपनी दवाएं लेते रहे ताकि इस तरह की हरकत दोबारा ना हो।