katihar
Pic: Twitter

    नई दिल्ली/कटिहार. बिहार (Bihar) के कटिहार (Katihar) से आ रही एक अनोखी और चौंका देने वाली खबर आ रही है। दरअसल उक्त मामला शिक्षा विभाग की लापरवाही से जुड़ा हुआ है, जिसका खामियाजा सालों से स्कूली बच्चे उठा रहे हैं। जी हाँ इस जिला के मनिहारी प्रखंड स्थित उर्दू प्राथमिक विद्यालय को साल 2017 में विश्वनाथ चौधरी आदर्श मध्य विद्यालय, आजमपुर गोला में शिफ्ट कर दिया गया था।

    लेकिन शिफ्ट कर दिए जाने के बाद अब यहाँ एक नई और विकट समस्या उत्पन्न हो गई है। हुआ यूँ कि, कि उक्त मध्य विद्यालय के पास पहले से ही कमरों की भारी कमी के चलते, एक प्रशासनिक आदेश के बाद कक्षा एक से लेकर पांच तक के बच्चों के लिए सिर्फ एक ही कमरा दिया गया था। जो आज भी ऐसे ही बदस्तूर जारी है।

    तीन शिक्षक एक साथ कराते हैं पढ़ाई 

    जी हाँ चौंक गए न आप, साल 2017 से लेकर आज तक यहां एक ही कमरे में कक्षा एक से लेकर कक्षा पांच तक के बच्चों की पढाई संचालित हो रही है। वहीं क्लास के दौरान यहाँ एक ही ब्लैकबोर्ड पर, एक साथ दो शिक्षक हिंदी और उर्दू की पढ़ाई साथ साथ, अलग-अलग कक्षा को कराते हैं। ख़ास बात यह है कि उर्दू प्राथमिक विद्यालय, मनिहारी में 3 शिक्षक पदस्थापित हैं। ऐसे में जब बच्चों को पढ़ाना होता है तब एक शिक्षक द्वारा इन छात्र-छात्राओं को अनुशासन में रखा जाता है। 

    समस्या का जल्द होगा समाधान 

    फिर यहाँ दो शिक्षक एक साथ एक की ब्लैक बोर्ड पर दो अलग-अलग विषय पढ़ाते हैं। तब इसके लिए ब्लैकबोर्ड को 2 हिस्सों में बांट लिया गया है। इस लापरवाही के संबंध में जब यहाँ के जिला शिक्षा पदाधिकारी से सवाल पूछे गए तो उनका कहना था कि, उन्हें भी हाल ही में इस बात की जानकारी मिली है और इस समस्या का शीघ्र समाधान होगा।