glue

    नयी दिल्ली. वैसे तो ग्लू कई तरह की चीजों को चिपकाने में काम आता है. लेकिन इससे अब एक आदमी ने अपनी गर्लफ्रेंड की आंख (Girlfriend’s eye) ही चिपका दी है. फिलहाल ये महिला बुरी तरह दर्द से जूझ रही है और अब तक यह भी साफ नहीं है कि तमाम ट्रीटमेंट के बाद भी उसकी आंख (Eye) अब पहले की तरह ठीक हो भी पाएगी या नहीं. मामला ब्राजील (Brazil) के कैचियोइरो डी इतापेमिरिम शहर का है. 

    आई ड्रॉप के साथ रख दिया था ग्‍लू भी 

    घटना के अनुसार 55 वर्षीय रेजिना अर्नामा दर्दनाक बीमारी ग्लूकोमा की शिकार हैं. उन्‍हें इसके लिए उसे हर रोज आई ड्रॉप डालना होता है. वो इन आई ड्रॉप को अपने घर के फ्रिज में ही स्‍टोर करती हैं. वहीं ‘द सन’ की रिपोर्ट के मुताबिक उनके बॉयफ्रेंड ने ग्‍लू को भी उसी फ्रिज में रख दिया जहां रेजिना के आई ड्रॉप राखी हुई थी. इधर जब रेजिना को जब आंख में तकलीफ हुई तो उसने अपने बॉयफ्रेंड से मदद मांगी. वह फ्रिज में रखे ग्‍लू और आई ड्रॉप के एक जैसे प्‍लास्टिक कंटेनर में ठीक से फर्क नहीं कर पाए और उसने गलती से रेजिना की आंख में आई ड्रॉप की जगह ये ग्‍लू डाल दिया. 

    दर्द से तड़पने लगी वह 

    इधर रेजिना की आंख में जहरीले केमिकल्‍स वाले ग्‍लू के पहुंचते ही वह तड़पने लगी. उसकी पलकें चिपक गईं तब जाकर बॉयफ्रेंड को अपनी इस भयंकर गलती का अहसास हुआ. लेकिन यह भी इत्‍तेफाक है कि ग्‍लू और आईड्रॉप के प्‍लास्टिक कंटेनर एक जैसे होने के अलावा उनके नाम भी तकरीबन एक जैसे थे और ‘C’ अक्षर से ही शुरू हो रहे थे. वहीं घटना के समय बेचारे ने अपना चश्‍मा नहीं लगाया हुआ था. इस घटना के बाद रेजिना ने बताया कि, जैसे ही ग्‍लू की बूंद उनकी आंख में पहुंची तो उन्हें बहुत तेज जलन हुई. ऐसा लगा कि जैसे उनकी आंख फट जाएगी. इसके बाद तत्‍काल रेजिना को हॉस्पिटल ले जाया गया और उसे ट्रीटमेंट दिया गया. रेजिना ने बताया कि पूरी रात वे दर्द से रोती रहीं. 

    कितना हुआ नुकसान 

    इस घटना पर रेजिना का इलाज कर रहे नेत्र रोग विशेषज्ञ लियाना टीटो ने बताया, “जब केमिकल वाले प्रोडक्‍ट जैसे- सुपरग्लू, या अल्कोहल वाले जैल जैसे ही आंख में लगते हैं तो तेज जलन होती है और यह कॉर्निया और कंजंक्टिवा को भी प्रभावित कर सकती है. वहीं आंख के अंदर चिपका हुआ ग्‍लू आगे क्रस्‍ट बनाकर कोई बड़ा घाव कर सकता है.” हालांकि रेजिना की आंख से अब ग्‍लू हटाकर उसे फिर खोल दिया गया है लेकिन अब भी ये यह साफ नहीं है कि उसकी आंखों को इस ग्लू से कितना नुकसान हुआ है और यह कितने समय तक ऐसा ही रहने वाला है.