Fraud
Representational Pic

    वर्धा. सरकारी नौकरी लगाकर देने के नाम पर 10 लाख रुपए की ठगी का मामला सामने आया है. इस धोखाधड़ी के प्रकरण में रामनगर पुलिस ने तीन आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी है. प्राप्त जानकारी के अनुसार सिंदी (मेघे) निवासी सरिता राजेंद्र डहाके (47) के पति का 2015 को निधन हो गया़ वे सिंचाई विभाग में बतौर कार्यकारी अभियंता कार्यरत थे़  शिवम डांस क्लास में सरिता की पहचान मोहिणी गावंडे से हुई.

    वह विक्रमशीलानगर में कुमरे के यहां किराये से निवासित थी़ं  बड़े बेटे को अनुकंपा में नौकरी लग रही है, ऐसा सरिता ने मोहिनी को बताया था़  एक दिन मोहिनी व उसका पति प्रशांत गावंडे सरिता के घर पहुंचे़ जहां उन्होंने बताया कि, मंत्रालय में मेरी अच्छी पहचान है़  बड़े बेटे को अनुकंपा पर लगाने का झांसा दिया़ सरिता को विश्वास में लेकर 7 लाख रुपए देने की बात कही़  कुछ दिनों बाद प्रशांत गावंडे के कहने पर जितेंद्र वीरखेडे के बैंक खाते पर 58 हजार रुपए फोन-पे से भेजे गए़  इसके बाद गुगल-पे से 1 लाख भेजे.

    इतना ही नहीं, कुछ गहने जितेंद्र वीरखेडे के नाम पर केलकरवाड़ी स्थित बैंक में गिरवी रखकर 49 हजार रुपए दिये़  इसके बाद 3 लाख अविनाश मेश्राम नामक व्यक्ति के समक्ष दिए़ शेष 1 लाख 93 हजार की राशी प्रशांत गावंडे को दी़ ऐसा कुल 7 लाख रुपया महिला ने दिया़ इसके बाद प्रशांत गावंडे ने किराया के का मकान छोड़ दिया व कारला चौक परिसर में राऊत के यहा किराये से रहने चला गया. 

    5 माह बाद विश्वासघात उजागर

    पांच माह बाद महिला को उसका पता चला व धोखाधड़ी की बात सामने आयी़ पैसों के बारे में पूछने पर प्रशांत गावंडे ने 12 फरवरी 2021 को गारंटी के तौर पर आईसीआई बैंक के दो चेक दे दिए़  इसके बाद दो माह बितने पर भी पैसे न लौटाने के कारण गावंडे से संपर्क किया गया़  इसके बाद उसने एचडीएफसी बैंक का 7 लाख रुपयों का चेक व सिंडीकेट बैंक का 3 लाख रुपयों काचेक दिया़ परंतु दोनों चेक बैंक में डालने पर बाउन्स हुए़ इसके बाद गावंडे दम्पति रूम छोड़कर कहीं चले गए. 

    काफी दिनों तक थाने में प्रकरण

    सरिता डहाके ने रामनगर थाना पहुंचकर आपबीती कथन की़  काफी दिनों तक प्रकरण जांच में रखा गया़ आखिरकार रामनगर पुलिस ने प्रशांत रामदास गावंडे, मोहिनी गावंडे व जितेंद्र वीरखेडे के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की जांच थानेदार धनाजी जलक के मार्गदर्शन में शुरू है.

    एक को 3 लाख से ठगा

    इन तीनों ने सरिता डहाके के साथ-साथ रवींद्र गावंडे नामक व्यक्ति को भी 3 लाख की चपत लगाई़  उनकी बेटी को सरकारी नौकरी लगाने के नाम पर झांसा दिया़  रवींद्र गावंडे ने भी पुलिस को आपबीती बताई़ ऐसा कुल 10 लाख रुपयों का चूना इन तीनों ने लगाया है.