3.68 लाख बच्चों को टीके की प्रतीक्षा

  • जिले में कुल 13.59 लाख नागरिक
  • 2.49 लाख ने लगाई पहली वैक्सीन
  • 63 हजार 83 का दूसरा डोज पूरा

वर्धा. कोरोना महामारी से बचने के लिये सरकार व्दारा टीकाकरण किया जा रहा है. परंतु अबतक बच्चों के टीकाकरण के संदर्भ में कोई निर्देश प्राप्त नहीं हुए हैं. तीसरी लहर में बच्चों पर बुरा असर होने की चेतावनी दी जा रही है. ऐसी परिस्थिति में जिले के 3 लाख 68 हजार 93 बच्चों को टीकाकरण की प्रतीक्षा है. बीते 15 माह से कोरोना संक्रमण महामारी बन चुका है. मई 2020  में कोरोना ने जिले में दस्तक दी थी. पहली लहर को रोकने के लिये जिला प्रशासन कामयाब रहा. परंतु दूसरी लहर ने जिले कोहराम मचाया. 1 फरवरी से 15 मई के दौरान 34 हजार 281 व्यक्ति संक्रमित हुए. तथा 820 संक्रमितों को अपनी जान गवांनी पड़ी.

कोरोना आगमन के पहले 9 माह में जिले में 10 हजार 89 व्यक्ति 31 जनवरी तक संक्रमित हुए तथा 305 की मौत हुई थी. पहली लहर की तुलना में दूसरी लहर का जिले में व्यापक असर हुआ था. कोरोना संक्रमण के फैलाव को देखते हुए सरकार ने टीकाकरण करने का निर्णय लिया. प्रथम व दूसरे चरण में फ्रंटलाइन वर्कर का टीकाकरण किया गया. जिसके बाद 60 प्लस व बाद में 44 प्लस का टीकाकरण प्रारंभ किया गया. केंद्र सरकार ने 18 से 44 आयु गुट के व्यक्तियों का टीकाकरण करने की घोषणा की. परंतु टीके की कमी के चलते राज्य सरकार ने 18-44 के टीकाकरण पर कुछ दिनों के लिये रोक लगाई थी. बीते दो माह से टीकों की कमी के कारण टीकाकरण की रफ्तार काफी धीमी हो गई है.18-44 आयु गुट के  नागरिक टीकाकरण की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

18 के नीचे आयु वर्ग को टीका कब?

एक ओर सरकार ने 18 से ऊपर आयु होनेवाले नागरिकों का टीकाकरण करने की घोषणा की है. किंतु 18 के नीचे के बच्चों के संदर्भ में अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया है. परिणामवश पालकों में डर का माहौल बना हुआ है. स्वास्थ्य विभाग ने तीसरी लहर का बच्चों पर असर होने की सूचना देने के उपरांत स्वास्थ्य विभाग नियोजन करने में जुट गया है. 

तीसरी लहर से निपटने की तैयारी

जिले के विविध सरकारी अस्पतालों के साथ निजी अस्पतालों में बेड रिजर्व किये जा रहे हैं. यह सब तैयारियां हो रही हैं. बावजूद बच्चों के टीकाकरण के संदर्भ कोई निर्णय नहीं हो रहा है. हाल ही में सरकार ने  बच्चों के टीकाकरण ट्रायल लेने की घोषणा की है. अपितु, ट्रायल होने के उपरांत बच्चों का टीकाकरण कब आरंभ होगा, इस संदर्भ में कोई जानकारी नहीं दी है. परिणामवश बच्चों का टीकाकरण अधर में लटका है.

जिले की आबादी के अनुसार 27 प्रश बच्चे

स्वास्थ्य प्रशासन के अनुसार जिले की कुल आबादी में 1 से 18 आयु गुट बच्चों का आबादी 27 प्रतिशत है. किंतु आज यही गुट टीकाकरण से वंचित है. बच्चों का टीकाकरण नहीं होने से स्कूल व ज्युनियर कॉलेज के अध्यापन इस वर्ष भी प्रभावित होनेवाला है.

वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी

जिले में कुल 13 लाख 58 हजार 855 नागरिकों का टीकाकरण प्रशासन को करना है. परंतु बीते 6 माह में केवल 63 हजार 446 नागरिकों दोनों डोज दिये गये हैं. 2 लाख 50 हजार 713 नागरिकों प्रथम डोज दिया गया है. शुरू के दो माह के दौरान प्रतिदिन 9 हजार नागरिकों का टीकाकरण किया जाता था. परंतु अब केवल 2000 से 2500 नागरिकों ही टीका लगाया जा रहा है.