Wardha Lohmarg Police

    वर्धा. मध्यरात्रि सुपरफास्ट एक्स्प्रेस ट्रेनों में चोरी व लूटपाट को अंजाम देने वाले बदमाशों के गिरोह का वर्धा लोहमार्ग पुलिस ने पर्दाफाश किया़  इस गिरोह के मुखिया सहित 4 सदस्यों को दिल्ली से अरेस्ट कर उनके पास से चोरी का 10 लाख रुपए का माल जब्त किया गया़  फिलहाल चारों आरोपियों को जेल में रवाना किए जाने की खबर है़  बता दें कि कोरोना संकट के चलते रेल प्रशासन द्वारा केवल लंबी दूरी की विशेष एक्स्प्रेस ट्रेनें चलायी जा रही है. 

    यात्रियों की संख्या कम होने के का लाभ यह गिरोह उठाता रहा. किसी भी एक्स्प्रेस ट्रेन में बैठकर मध्यरात्रि चोरी की वारदात को अंजाम दिया जाता था़  पिछले कुछ माह से इस गिरोह ने मध्य रेलवे के लोहमार्ग पुलिस की नाक में दम कर रखा था़  परिणामवश नागपुर, चंद्रपुर, वर्धा सहित अन्य रेलवे स्टेशन की लोहमार्ग पुलिस इस गिरोह के पिछे लगी थी़  वर्धा लोहमार्ग थाने में चोरी के चार मामले दर्ज किये गए थे़  जनवरी, मार्च में एक-एक व जून माह में दो चोरियां हुई थी़ तीन चोरियों में तीन से साढ़े तीन लाख रुपए के आभूषण चोरी हुए थे, जबकि अन्य एक दो चोरियों में नकद व आभूषण चुराने की शिकायत दर्ज थी.  

    आरोपियों ने PCR में उगली चोरी की घटनाएं 

    स्थानीय लोहमार्ग पुलिस ने इस गिरोह को पकड़ने के लिए विशेष नियोजन किया. यात्रियों से मिली जानकारी, सीसीटीवी फुटेज व अन्य तकनीकी बातों के आधार पर तीनों आरोपियों के बारे में जानकारी हासिल की़  पश्चात वरिष्ठों के मार्गदर्शन में लोहमार्ग पुलिस की एक टीम दिल्ली के लिए रवाना हुई़  जहां से गिरोह के कुछ साथियों को हिरासत में लिया गया़  उनसे मिली जानकारी के आधार पर गिरोह के मुखिया रवीकुमार लुभाना (30) को दबोचा गया़  गिरोह के सभी चारों सदस्यों को लेकर लोहमार्ग पुलिस वर्धा पहुंची़  पीसीआर के दौरान जानकारी के आधार पर उनसे चोरी का 10 लाख रुपए का माल जब्त किया गया़  कार्रवाई को नागपुर लोहमार्ग के पुलिस अधीक्षक एम़ राजकुमार के मार्गदर्शन में वर्धा लोहमार्ग के पुलिस निरीक्षक दयानंद सरवदे के निर्देशानुसार पुलिस उपनिरीक्षक विशाल डोणेकर, पीएसआई सैयद व टीम ने अंजाम दिया. 

    मध्यरात्रि के दौरान की जाती थी चोरी

    यह गिरोह अन्य यात्रियों के साथ ही सफर करता था़  ट्रेन छूटने के बाद गिरोह के सदस्य विविध बोगी में बैठकर जायजा लेते थे़  मध्यरात्रि यात्री सोने के बाद यह उनकी बैग, सूटकेस, महिला यात्रियों की पर्स अन्य सामग्री चुराकर बीच में लगने वाले स्टेशन पर उतर जाते थे़  इसके बाद सभी की नजर चुकाकर रफूचक्कर हो जाते थे. 

    नवजीवन एक्स्प्रेस को बनाया था लक्ष्य

    उल्लेखनिय यह कि इस गिरोह ने नवजीवन एक्स्प्रेस को अपना लक्ष्य बनाया था़  यह ट्रेन वर्धा में मध्यरात्रि ढाई बजे पहुंचती है़  क्षेत्र के अन्य कुछ स्टेशनों पर भी यह ट्रेन रात्रि ही गुजरती है़  परिणामवश सर्वाधिक चोरियां इसी ट्रेन में होने की जानकारी है. 

    6 माह से लोहमार्ग पुलिस को थी तलाश

    वर्धा लोहमार्ग पुलिस थाने में जनवरी माह में पहली चोरी की शिकायत दर्ज हुई थी़  तब से जीआरपीएफ की टीम इन आरोपियों की तलाश में थी़  इसके बाद पुन: तीन चोरियों को इस गिरोह ने अंजाम दिया़ इस बीच पुलिस ने हर पहलू पर ध्यान केंद्रीत कर गिरोह को धरदबोचा.