Only 57 percent water left in dams

    वर्धा. जिले में गत पांच दिनों से रुक-रुककर बारिश हो रही है. बारिश के चलते जिले के बांधों में भी जलभंडार हो रहा है. फिलहाल जिले के 11 बडे व 20 लघुबांधो में उपयुक्त 53.02 फीसदी जलसंचय हुआ है.

    जिले में बडे 11 बांध है, जिनमें से बोर बांध में 49.44 फीसदी, निम्न वर्धा बांध में 67.35 फीसदी, धाम प्रकल्प में 28.21 फीसदी, पोथरा बांध में 59.41 फीसदी, पंचधारा प्रकल्प 31.54 फीसदी, डोंगरगांव प्रकल्प 30.51 फीसदी, मदन प्रकल्प 41.95 फीसदी, लाल नाला 66. 61 फीसदी, वर्धा कार नदी प्रकल्प 19.88 फीसदी कुल 53.2 फीसदी जलसंचय हुआ है.

    वही छोटे लघु बांध में कवाडी 22.45 फीसदी, सावंगी 39.34 फीसदी, लहादेवी 29.81 फीसदी, पारगोठाण 38.18 फीसदी, अंबाझरी 21.02 फीसदी, पांजरा बोथली 29.70 फीसदी, उमरी 24.23 फीसदी, टेंभरी10.41 फीसदी, आंजी बोरखेडी 45.27 फीसदी, दहेांव गोंडी 54.88 फीसदी, कुर्हा 36.95 फीसदी, रोठा एक में 29.19 फीसदी, रोठा दो में 29.20 फीसदी, आष्टी 34.98 फीसदी, पिलापुर 34.71 फीसदी, कन्नमवारग्राम 9.05 फीसदी, परसोडी 0.47 फीसदी, मलकापुर 26.91 फीसदी, हराशी 27.48 फीसदी, टाकली बोरखेडी 14.98 फीसदी कुल 29.88 फीसदी जलभंडार हुआ है.

    दो बांध अभी भी प्यासे

    जिले में बडे 11 प्रकल्प है, जिनमें से दो बांध अभी भी प्यासे होकर पानी के लिए तरस रहे है. मदन उन्नई बांध व सकली लघु प्रकल्प में अब तक जलंसचय नही हुआ है. आगामी दिनों में अच्छी बारिश होती है तो इन बांधों की भी प्यास बुझ सकती है.

    24 घंटे में 47 मिमी बारिश

    जिले में गत 24 घंटे में 47.3 मिमी बारिश दर्ज की गई. जिसमें वर्धा तहसील 2.21मिमी, सेलू 1.40 मिमी, देवली 3.03 मिमी, हिंगनघाट 14.38 मिमी, समुद्रपुर 10.87 मिमी, आर्वी 5.43 मिमी, आष्टी 5.46 मिमी, कारंजा 4.25 मिमी बारिश दर्ज की गई. गुरुवार को दिनभर बादल छाये रहे. साथ ही रुक-रुक कर बारिश होती रही.