Fruit seller beaten to death for non-payment of borrowings

  • प्राध्यापिका अग्निकांड का प्रकरण

वर्धा. बहुचर्चित अंकिता पिसुड्डे अग्निकांड प्रकरण में तीन दिनों में 7 गवाहों के बयान दर्ज किए गए. न्यायालय ने अब अगली सुनवाई 15, 16 व 17 फरवरी को तय की है. राज्य में बहुचर्चित हिंगनघाट अग्निकांड मामले में 17 दिसंबर को आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया गया था.  11, 12,13 जनवरी को हिंगनघाट शहर में फास्ट ट्रक अतिरिक्त जिला सत्र न्यायालय में गवाह और सबूत पेश किए गए. विशेष सरकारी वकील उज्ज्वल निकम ने अभियोजन पक्ष की ओर से पैरवी की.

उन्हें सरकारी अभियोक्ता प्रसाद सोईटकर ने साथ दिया. बुधवार को फिर से आरोपी को पेश किया गया. बुधवार को दो की गवाही हुई, इसे मिला के इन तीन दिनों में सात गवाह के बयान दर्ज किये गये. हिंगनघाट की प्राध्यापिका को पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया गया था. विकेश नगराले पर हत्या की साजिश रचने सहित जिंदा जलाने का आरोप लगाया गया था.

फरवरी में होगी अगली सुनवाई

इस समय शासन की ओर से सरकारी वकील प्रसाद सोईटकर ने काम किया था. आरोपी विकेश नागराले की ओर से नागपुर के वकील भूपेंद्र सोने ने काम देखा था. इस मामले की सुनवाई फिर  (11,12,13 जनवरी)को शुरू हुई, तब विशेष सरकारी वकील उज्ज्वल निकम ने पैरवी की. बुधवार को सुबह 11  बजे कोर्ट की कार्यवाही फिर शुरू हुई. मृतक के माता पिता की गवाही बुधवार को ली गई.  इस वक्त मृतक की मां भावना विवश होने से कुछ वक्त के लिए कोर्ट का कामकाज रोका गया. आरोपी के वकील ने बुधवार को मृतक के पिता का क्रास एक्जमिशन किया.