जिले में बनेंगे 8,000 किचन गार्डन

  • उमेद महाराष्ट्र राज्य ग्रामीण जीवन्नोन्नति का उपक्रम

वर्धा. उमेद महाराष्ट्र राज्य ग्रामीण जीवनोन्नति अभियान के अंतर्गत 25 जून से 15 जुलाई के दौरान माझी पोषण परसबाग विकसन अभियान (किचन गार्डन) चलाया जा रहा है. इसके तहत वर्धा जिले में 8 हजार से अधिक वैयक्तिक व सामुदायिक स्वास्थ्यदायी किचन गार्डन बनाने का संकल्प किया गया है.

अभियान के अंतर्गत वर्धा जिले के आठ तहसील में कृतिसंगम विभाग के अंतर्गत अन्न, स्वास्थ्य, पोषण व स्वच्छता विषयों में कार्य किया जा रहा है. गर्भधारणा से लेकर बच्चे के दो वर्ष तक कुल 1 हजार दिनों की अवधि में पोषण की स्थिति सुधारने उमेद अभियान अंतर्गत स्वास्थ्य, पोषण व स्वच्छता पर अमल किया जाता है. इस अंतर्गत मुख्य रूप से गर्भवती महिला, स्तनदा माता व बालकों पर लक्ष्य केन्द्रीत किया गया है. इस अवस्था में महिलाओं का पोषण, आहार पद्धति, बीमार व कुपोषित बालकों के पोषण का ध्यान, एनिमिया, जीवनसत्व अ तथा आयोडिन की कमी पर नियंत्रण आदि मुद्दों पर ध्यान दिया जाता है. वैयक्तिक स्वच्छता, हाथ धोने की पद्धति, आदतें, कीचन या घर में स्वच्छ पानी के स्त्रोत की उपलब्धता आदि पर मार्गदर्शन किया जाता है. उमेद अभियान के अंतर्गत स्थापित स्वयं सहायता समूह के सदस्यों की पोषण व स्वास्थ्य की स्थिति सुदृढ़ रहे, इसके लिए आहार में जहरमुक्त, ताजा व पोषक तत्वों से युक्त सब्जियों की नियमित आवश्यकता है.

स्वयं सहायत समूह के परिवार स्तर पर वैयक्तिक पोषण किचन गार्डन विकसन यह महत्वकांक्षी कार्य उमेद अभियान के अंतर्गत शुरू है. अभियान के सफलतार्थ जिप मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा़ सचिन ओम्बासे, जिला ग्रामीण विकास यंत्रणा के प्रकल्प संचालक सत्यजीत बडे के मार्गदर्शन में यंत्रणा कार्यरत होने की जानकारी जिला अभियान प्रबंधक स्वाति वानखेडे, युवा व्यवसायी अमोल पाटिल ने दी.