दोषी ग्रामसेवक व विस्तार अधिकारी पर करें कार्रवाई

  • विधायक दादाराव केचे की मांग
  • वर्धपुर के रोहयो में घोटाले का प्रकरण

आर्वी. आष्टी तहसील के वर्धपुर में रोजगारसेवक, ग्रामसेवक तथा पंचायत समिती आष्टी के विस्तार अधिकारी कांबले ने रोहमीयो अंतर्गत फलबाग बुआई, रमाई आास योजना, शौचालय निर्माण आदि कार्य मात्र रिकॉर्ड पर बताये गए़ योजनाअंतर्गत निधी मजदूरों के नाम निकलने से सरकारी कर्मियों ने संगनमत कर वरिष्ठ नागरिकों के नियमबाह्य हाजेरी बुक निकाल कर बडी मात्रा में भ्रष्टाचार को अंजाम दिया़ इस प्रकरण के संपुर्ण दस्तावेज हाथ में लगे हुए है़ इसमें दोषियों पर सख्त कार्रवाई करें. इस आशय की मांग का ज्ञापन विधायक दादाराव केचे ने ग्रामविकास मंत्री हसन मुश्रीफ, विभागीय आयुक्त नागपुर व जिलाधिकारी विवेक भीमनवार को सौंपा है़ 

उक्त रोजगार गैरंटी योजना यह गांव के विकास के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है़ वर्धपुर गांव के विकास के साथ ही स्थानियों को रोजगार भी उपलब्ध हुआ रहता़ परंतु रोजगार सेवक व ग्रामसेवक ने गांव की सेवा करने का प्रयास तो किया ही नहीं, अपितु आष्टी के विस्तार अधिकारी से मिलिभगत कर भ्रष्टाचार को अंजाम दिया़ वर्धपुर के किसान बाबाराव शामराव ढोंगे ने सन 2018-19 में रोहयो अंतर्गत फलबाग बुआई मंजूर हुई थी़ इस दौरान योजना में मंजूर कुशल व अकुशल निधी किसान को प्रत्यक्ष न मिलते हुए वर्धपुर के रोजगारसेवक, ग्रामसेवक व ग्रामविकास अधिकारी ने उनके नजदिकी लोगों के नाम पर उठायी.

इस योजना में 54 हजार रुप मंजूर होते हुए भी किसान को मात्र 15 हजार रुपए दिये गए़ शेष 39 हजार की राशी गटक ली गई़ इतना ही नहीं तो साहेबराव वानखेडे की आयु 64 वर्ष होने रोहयो के काम पर लगाया नहीं जा सकता, फिर भी राजीव गांधी भवन बांधकाम पर उन्हें हाजेरी बुक पर बताते हुए 1442 रुपए निकाले गए़ रमाई आवास योजना अंतर्गत सविता उमेश ब्राह्मणे के नाम पर आवास मंजूर हुआ था़ बांधकाम पुर्ण होने पर कुशल व अकुशल इन दोनो घटको में मिलनी थी, परंतु अकुशल की 18,090 रुपए में से भ्रष्टाचारी तिकडी ने केवल 2800 रुपए देकर शेष 15,280 रुपए तीनों ने हजम कर लिए, ऐसा भी गंभीर आरोप विधायक केचे ने किया.

वर्धपुर में स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत शौचालय के लिए 11 लाभार्थियों की सूची ग्रामपंचायत ने मंजूर की थी़ इसमें बडी मात्रा में भ्रष्टाचार किया गया़ नत्थु ज्योतीराम कोल्हे व उनकी पत्नी तुलसाबाई कोल्हे का संयुक्त परिवार होते हुए भी दोनों के नाम अलग अलग शौचालय बताये गए़ परंतु इसमें से एक ही शौचालय का निर्माण कर दो शौचालय का अनुदान उठाने की बात सामने आयी है़ इस प्रकार रोजगार सेवक, ग्रामसेवक तथा विस्तार अधिकारी की तिकडी ने भ्रष्टाचार किया है़ परंतु अब तक उनके खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की गई़ तीनों को शीघ्र निलंबित कर अपहार की राशी वसूली जाए़ ऐसी मांग विधायक दादाराव केचे ने ज्ञापन में की है़