Khatik Samaj

  • खाटीक समाज ने सौंपा जिलाधिकारी को निवेदन

वर्धा. खाटीक समाज का मुख्य व्यवसाय मांस बिक्री है़ इसके माध्यम से उनके परिवार का पालनपोषण होता है़ धूलिवंदन के दिन ज्यादा मांग रहने से बड़े पैमाने पर व्यवसाय होता है़ इसके लिए मांस विक्रेता पूर्वनियोजन भी करते है़ लेकिन सोमवार 29 मार्च को धूलिवंदन के दिन लाकडाउन लागू होने के कारण व्यवसाय पर संकट निर्माण हो गया है़ इसके चलते धूलिवंदन के दिन दोपहर 2 बजे तक मांस बिक्री को अनुमति देने की मांग नगरसेवक सचिन सुभाष पारधे के नेतृत्व में खाटीक समाजबंधुओं ने की जिलाधिकारी को सौंपे ज्ञापन में की है़ ज्ञापन में बताया कि खाटीक समाज पिछड़े वर्ग में आता है.

समाज का मुख्य व्यवसाय यह मांस बिक्री का है़ रविवार यह मांस बिक्री का दिन रहता है़ लेकिन विगत 4 सप्ताह से कोरोना फैलाव के कारण मांस बिक्री बंद है़ इस कारण व्यवसाय संकट में आ गया है़ किंतु होली के त्योहार के मद्देनजर धूलिवंदन को पाड़वा मनाने की परंपरा चली आ रही है.

मांस विक्रेताओं के व्यवसाय पर संकट 

सोमवार को धूलिवंदन के दिन प्रशासन की ओर से लाकडाउन लगाया गया है, जिससे धूलिवंदन के दिन होने वाला व्यवसाय संकट में है़  मांस विक्रेताओं की ओर से पहले से ही पूर्वनियोजन किया गया था, लेकिन अब लाकडाउन के कारण काफी नुकसान होगा़  यह नुकसान टालने के लिए दोपहर दो बजे तक मांस बिक्री को अनुमति देने की मांग की गई है़  ज्ञापन देते समय पवन कटरे, अरुण गुजर, कैलास गुजर, विजय पारधे, राजेंद्र पारधे, संजय धुर्गे, किरण पारधे, मनोहर गुजर, श्याम गुजर, सचिन माहुरे, दीपक हिकारे, राकेश कटारे, अमोल दुर्गे, सुरेश गुजर, अनिल ढोके आदि उपस्थित थे.

कलेक्टर का प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन

नगरसेवक सचिन पारधे के नेतृत्व में खाटीक समाज के शिष्टमंडल ने जिलाधिकारी को अपनी समस्याओं से रूबरू किया. इस दौरान जिलाधिकारी ने इस पर उचित निर्णय लेने का आश्वासन दिया है़  इसके बाद होली के व्यवसाय पर मंडरा रहा खतरा दूर होगा और हमें व्यवसाय करने के लिए अनुमति मिलेगी, यह उम्मीद प्रतिनिधिमंडल में शामिल सदस्यों ने व्यक्त की.