Animals left in the standing crop

  • बिमारी से 6 एकड की फसल चौपट
  • किसान का भारी नुकसान

सालोड. बडी उम्मीद के साथ सोयाबीन फसल बोई, पौधें भी उगे़ परंतु बिमारी व इल्लियों की चपेट में आकर फसल बर्बाद हो गई. लागत खर्च भी निकलना मुश्किल हो गया़. इससे चिंतीत किसान ने खडी फसल में पालतु पशुओं को चरने छोड दिया. बता दे कि, खरीफ में इस बार किसानों ने सोयाबीन की फसल बडी मात्रा में ली़ परंतु बोगस बीज, बिमारी, इल्ली तथा अतिवृष्टी के कारण फसल हाथ से निकल गई. जिले में 80 फिसदी सोयाबीन की फसल बर्बाद हो गई़ इसका सर्वे कृषि विभाग द्वारा किया जा रहा है.

समुद्रपुर में कुछ किसानों ने सोयाबीन की फसल पर रोटावेटर चला दिया. पौधे तो निकल आए, परंतु इसे फल्लिया ही नहीं लगी. इससे किसान चिंतीत है. अब लागत खर्च भी निकलना मुश्किल हो गया. इससे तंग आकर सालोड के अनिल यादव नामक किसान ने पशुओं को ही खडी फसल में छोडने का निर्णय लिया. उसने शामपुर शिवार स्थित 6 एकड खेत में सोयाबीन की फसल बोई.

उसने 335 नस्ल के बीज बोये थे. परंतु फसल उम्मीद से कम हुई, तो पौधों को फल्लिया ही नहीं लगी. अब लागत खर्च भी निकलना मुश्किल हो गया है. इस लिए पशुओं को चरने फसल में छोड दिया, ऐसी जानकारी यादव ने दी. यही स्थिति परिसर के अन्य क्षेत्र में बनी हुई है़ सरकार व प्रशासन इस समस्या की ओर गंभीरता से ध्यान देकर किसानों को राहत प्रदान करें, ऐसी मांग हो रही है.