बा.दे. अभियांत्रिकी कर्मियों का बैठा सत्याग्रह

  • 30 माह से नहीं मिला वेतन, व्यक्त किया असंतोष

वर्धा. 30 माह से बकाया वेतन की मांग को लेकर बापुराव देशमुख अभियांत्रिकी मवि के शिक्षकेत्तर कर्मचारियों ने प्रवेशद्वार पर एक बैठा सत्याग्रह किया़ गुरुवार, 10 दिसंबर को सभी कर्मियों ने हडताल पर जाते हुए महाविद्यालय प्रशासन के प्रति तीव्र असंतोष व्यक्त किया़ 

बता दे कि, सेवाग्राम स्थित बापुराव देशमुख अभियांत्रिकी महाविद्यालय पिछले कुछ वर्षों से काफी चर्चा में रहा़ कई माह से यहां कार्यरत कर्मचारियों में अनियमित वेतन को लेकर दबी आवाज में चर्चा चल रही थी़ आखिरकार कर्मचारियों के संतोष का बांध बुधवार को  फुटा़ पिछले 30 माह से वेतन बकाया होने के कारण कर्मचारियों की आर्थिक स्थिती बिकट हो गई है़ कर्मचारी वेतन न मिलने के कारण बैंक कर्ज के हफ्ते व अन्य काम नहीं कर पा रहे़ अनेक कर्मचारी कर्ज उठाकर परिवार का गुजरबसेरा चला रहे है़ उनकी मानसिक हालत बिघड रही है़ पिछले कई दिनों से कर्मचारी बकाया वेतन की मांग महाविद्यालय प्रशासन की ओर कर रहे है.

इस संबंध में संस्था के संचालक समीर देशमुख से भी बार बार चर्चा हुई़ परंतु इस ओर हमेशा अनदेखी की गई़ परिणामवश संतप्त शिक्षकेत्तर कर्मचारियों ने गुरुवार, 10 दिसंबर को हडताल का निर्णय ले लिया़ पश्चात सभी कर्मचारियो ने कॉलेज के प्रवेशद्वार पर एकत्रीत आते हुए बैठा सत्याग्रह शुरु कर दिया़ आंदोलन में कॉलेज के 75 कर्मचारी व 30 सुरक्षा रक्षकों ने हिस्सा लिया था़ इस दौरान कर्मचारियों ने कॉलेज प्रशासन के खिलाफ तीव्र असंतोष जताया़ शीघ्र बकाया वेतन अदा करें, अन्यथा आगामी आंदोलन अधीक तीव्र होंगा, ऐसी चेतावनी कर्मचारियों ने दी़ कर्मचारी हडताल पर जाने से कॉलेज प्रशासन में खलबली मच गई थी़ कर्मचारियों को वेतन देने का आश्वासन दिया गया़ 

खर्च व आय में विषमता – प्राचार्य

छात्रवृत्ती अनियमित मिल रही है़ यहां कार्यरत कर्मियों का वेतन सरकारी कर्मियों की तरह है़ गत पांच-छह वर्ष में खर्च व आय की मात्रा विषम हुई है़ आय कम होने के कारण प्रतिवर्ष कुछ मात्रा में वेतन दे पाना संभव नहीं हो पाया़ ऐसा नहीं की वेतन नहीं दिया गया़ परंतु इसमें थोडी अनियमितता हुई है़ यह कॉलेज बिनाअनुदानित है़ इस वर्ष विद्याथिर्यों का प्रवेश बढा है़ आय का स्त्रोत बढने पर हम सभी का वेतन करेंगे़ 

-प्राचार्य डा़  गिरीष ठाकरे, बी.डी. कॉलेज