बैक वाटर बना किसानों का काल, 600 हेक्टयर की फसल बर्बाद

वर्धा. निम्न वर्धा बांध का बैक वाटर आर्वी तहसील के किसानों के लिए काल बन गया है़ गत दस दिनों से खेतो में पानी जमा होने के कारण फसल चौपट हो गई है़ इससे किसानो के सामने गंभीर प्रश्न निर्माण हुआ है. वर्धा नदी पर आर्वी तहसील के धनोडी समीप निम्न वर्धा बांध का निर्माण किया गया है़ शुरु से ही यह बांध किसानों के लिए फायदेमंद कम नुकसानदेह साबीत हो रहा़ .

wardha

बांध की जगह गलत होने के कारण यह खामियाजा किसानों को भूगतना पड रहा है. निरंतर बारिश के चलते अमरावती जिले के अपर वर्धा बांध से वर्धा नदी में पानी छोडा जा रहा है. इससे वर्धा नदी का जलस्तर बढने के कारण निम्न वर्धा बांध के तट पर यह पानी रुक रहा़ परिणामवस्वरुप पानी की निकासी नहीं होने के कारण यह पानी परिसर के किसानो के खेतों में घुसा है.

wardha

निम्न वर्धा से निरंतर पानी का रिसाव होने के उपरांत भी खेतो में पानी जमा होने से फसलो का भारी नुकसान हुआ है़ आर्वी तहसील के देऊरवाडा, नांदपुर, सर्कसपुर, अहिरवाडा, ईटलापुर, सायखेडा, रोहणा, दिघी (होणाडे), सालफल आदि परिसर की 600 हे़ से अधिक फसल बर्बाद होने की जानकारी है़ खेतों में निरंतर पानी जमा होने के कारण फसल पुर्णरुप से सड चुकी है़