बारीश की आफत, भिगा कपास व सोयाबीन, मंडियों में भिगा सोयाबीन

  • किसानों पर फिर मार, वर्धा में दिया ज्ञापन

वर्धा. लौटती हुई बारीश किसानों पर कहर ढाह रही है. सोमवार की दोपहर जिले के अधिकांश हिस्सों में झमाझम बारीश ने दस्तक देने के कारण कपास, सोयाबीन भीग जाने से किसानों का भारी नुकसान हुआ. वहीं वर्धा समेत अनेक मंडियों में बेचने के लिये लाया गया सोयाबीन भीग गया.

गत कुछ दिनों से बदरिला मौसम के कारण कपास की फसल पर बुरा असर हो रहा है. लौटती हुई बारीश ने भी फसलों का भारी नुकसान किया था. सोमवार को दोपहर में अचानक आसमान में बादलों का जमवडा हुआ. देखते ही देखते झमाझम बारीश शुरू हुई. वर्धा, देवली तहसील के साथ अन्य कुछ तहसिलों में बारीश के कारण बडा नुकसान होने की जानकारी है. कुछ हिस्सो में तेज हवाओं के साथ बारिश ने दस्तक दी़ जिले में कपास की फसल से कपास चुनने का काम शुरू है. ऐसे में बारीश ने दस्तक देने के कारण कपास फिर भीग गया. तो अनेक जगह कपास जमीन पर गिर जाने की जानकारी है. खेतों में खडी सोयाबीन की फसल व गंजीया भिगने की भी जानकारी किसानों ने दी. समुद्रपुर तहसील में केवल दहेगांव परिसर में बारीश होने की खबर है.

बाजार समिति में भिगा सोयाबीन

वर्धा बाजार समिती में किसानों ने आज सोयाबीन बेचने लिये लाया था. मंडी में निलामी हेतू खुली जगह पर रखा गया था. बारीश आने के कारण किसान व व्यापारी सोयाबीन भिगने से बचाने के लिये भागमभाग कर रहे थे. किंतु पर्याप्त साधन सामुग्री नहीं होने के कारण करीब 300 क्विंटल सोयाबीन भिग गया.

सब्जी बाजार के लिये दो शेड

गत कुछ दिनों से मंडी में भरनेवाला सब्जी बाजार हटाने की मांग बाजार समिती व्दारा की जा रही है.किंतु प्रशासन ने कोरोना के मद्देनजर अबतक बाजार नही हटाया.जिससे दो शेड सब्जी बाजार के लिये जाने से किसानों को अपनी उपज खुली में रखनी पडती है.सोमवार को उपज खुले में रखने के कारण भिग गई.बारीश से हुये नुकसान के कारण बाजार समिती व्यवस्थापन ने प्रशासन की खिलाफ नाराजी व्यक्त की.

किसानों के हित में सब्जी बाजार हटाया जाये : सब्जी बाजार के लिये दो शेड देने के कारण व्यापारी व किसानों को अपना माल खुले में रखना पडता है. बारीश के कारण सोयाबीन भिग गया है. जिससे सब्जी बाजार हटाने हेतु एसडीओं को ज्ञापन दिया गया है.

श्याम कार्लेकर, सभापति बाजार समिती, वर्धा