corruption

  • 1 हजार की रिश्वत स्विकारी
  • वर्धा एसीबी की कार्रवाई

वर्धा. एक हजार की रिश्वत स्विकारते पंचायत समिति के क्लर्क को रंगेहाथ गिरफ्तार किया गया. उक्त कार्रवाई को एन्टी करप्शन ब्यूरो ने गुरुवार, 18 जून की दोपहर अंजाम देते ही खलबली मच गई.

प्राप्त जानकारी के अनुसार शहर के हिंदनगर निवासी अमोल कृष्णाजी वाघमारे (38) पंचायत समिति के आस्थापना विभाग में बतौर क्लर्क कार्यरत है़ पिछले कुछ दिनों से आष्टी से सेवानिवृत्त शिक्षक पेन्शन के काम से दफ्तर के चक्कर काट रहे थे. सेवानिवृत्ती उपदान व अंशदान का बिल निकालने का काम वाघमारे ने किया था. किन्तु किये गए काम के ऐवज में वाघमारे ने उन्हें पार्टी तथा 1 हजार रुपए रिश्वतत की मांग की. इस संबंध में वर्धा एन्टी करप्शन ब्यूरो की ओर आर्वी नाका निवासी सेवानिवृत्त शिक्षक ने शिकायत दर्ज कर दी़ तय समय पर एन्टी करप्शन ब्यूरो के अधिकारी व कर्मचारी जाल बिछाये बैठे थे.

जेसे ही वाघमारे ने राशी स्विकारी वैसे ही कार्रवाई को अंजाम दिया गया. इसके बाद पंस कार्यालय परिसर में खलबली मच गई थी. कार्रवाई को नागपुर परिक्षेत्र के पुलिस अधीक्षक रश्मी नांदेडकर, अपर पुलिस अधीक्षक राजेश दुद्दलवार, पुलिस उपअधीक्षक विजय माहुलकर के मार्गदर्शन में वर्धा के पुलिस उपअधीक्षक गजानन विखे के निर्देशानुसार पुलिस निरीक्षक सुहास चौधरी, रोशन निंबोलकर, विजय उपासे, अतुल वैद्य, सागर भोसले, प्रदीप कुंचकर, चालक निलेश महाजन ने अंजाम दिया.