Bor Tiger Reserve
File Photo

    वर्धा. कोरोना के कारण बोर टाइगर रिजर्व में दूसरे वर्ष भी प्राणी गणना नहीं होगी. सोमवार को इस संदर्भ वरिष्ठ स्तर से आदेश जारी हुए है़ प्रति वर्ष बुद्ध पूर्णिमा को जिले के जंगलों में प्राणी गणना होती है. अनेक वन्य प्रेमी प्राणी गणना के लिये उपस्थित दर्शाते है. बोर टाइगर रिजर्व को वन्यप्रेमियों की पहल पसंद रहती है. पेंच टाइगर रिजर्व के अंतर्गत बोर टाइगर रिजर्व आने के कारण प्रति वर्ष पेंच टाइगर रिजर्व व्दारा आनलाइन आवेदन करने के प्रावधान किया जाता है. अनेक इच्छुक आनलाइन आवेदन कर प्राणी गणना में शामिल होते हैं. रातभर जंगल में मचान पर रूककर प्राणियों की हलचलों का पंजीयन करते हैं, जिसके बाद जंगल में कितने प्राणी है. इसका अनुमान लगाया जाता है.

    कोरोना संकटकाल का पड़ा असर

    कोरोना संक्रमण के चलते इस वर्ष में प्राणी गणना नहीं करने का निर्णय पेंच टाइगर रिजर्व ने लिया है, जिस कारण बुधवार को होने वाली प्राणी गणना नहीं होगी. दूसरे वर्ष में भी प्राणी गणना नहीं होने के कारण वन्यप्रेमियों ने नाराजगी जताई है. प्रधान मुख्य वनसंरक्षक (वन्यजीव) महाराष्ट्र राज्य एस़ युवराज ने उक्त आदेश जारी किए है़ इसमें कहा गया कि 1 जून तक लाकडाउन लागू होने के कारण 26 व 27 मई को होने वाली प्राणी गणना रद्द की जाती है.

    नहीं होगी प्राणी गणना

    बुद्ध पूर्णिमा को प्रति वर्ष प्राणी गणना की जाती है. किंतु इस बार भी कोरोना संकट के चलते प्राणी गणना नहीं ली जाएगी़ इससे संबंधित आदेश वरिष्ठ स्तर से हमें प्राप्त हुए है.

    -नीलेश गावंडे, आरएफओ-बोर टाइगर रिजर्व.