Wardha Women Hospital Main Building

    वर्धा. जिला अस्पताल के परिसर में स्थित महिला अस्पताल की इमारत का निर्माण लगभग पुरा हो गया है.एक और प्रशासन भुगाव में जेम्बों अस्पताल का निर्माण कर रहा है. परंतु  जनप्रतिनिधियों के साथ प्रशासन ने पहल की तो महिला अस्पताल में  जेम्बों कोविड अस्पताल का निर्माण हो सकता है. केवल सकारात्मक भावना से  कार्य करने की आवश्यकता है.

    जिले में महिला अस्पताल नही होने के कारण जिला अस्पताल परिसर में अस्पताल निर्माण को स्वास्थ्य विभाग ने 12.4.2013 को अनुमति प्रदान की थी.अस्पताल पर 14 करोड की राशी खर्च होनेवाली थी. परंतु निधी का प्रावधान नही होने से अस्पताल का निर्माण अधरा में अटका था.सन 2017 में तत्कालिन पालकमंत्री सुधिर मुनगंटीवार ने अस्पताल के लिये 9 करोड की राशी देने के कारण अस्पताल निर्माण ने गति पकडी.किंतु इस दौरान विलंब व अन्य कामों का समावेश होने से अस्पताल निर्माण की लागत 21 करोड 23 लाख 32 हजार तक जा पहुंची.

    1393 लाख हुए खर्च

    अस्पातल के निर्माण पर अबतक 13 करोड 93 लाख रूपये खर्च हुए है. बावजूइ इसके शेष राशी सरकार की और से नही मिलने से काम बंद पडा हुआ.एक और जिले के अस्पताल में बेड की संख्या कम पड रही है.ऐसे में निधी के अभाव में यह अस्पताल बिते  तीन वर्षा से अधर में लटका हुआ है.अस्पताल पुरा निर्माण करने के लिये 7 करोड 30 लाख 32 हजार रूपयों की आवश्यकता है. निधी के अभाव ठेकेदार के करीब 4.25 करोड रूपये लटकने के कारण उसने काम बंद किया है.

    इमारत का कार्य 80 प्रश पुरा

    वर्तमान में महिला अस्पताल के इमारत का निर्माण कार्य 80 प्रश पुर्ण हुआ है.टाईल्स लगाने के साथ ही इलेक्ट्रीक फिंटींग का भी अधिकांश का पुर्ण हुआ है.खिडकीयों की स्लाईडिंग, इलेक्ट्रीक फिटींग व बांधकाम का कुछ कार्य शेष है.सरकार की और जल्द निधी प्राप्त हुआ तो यह काम 15 दिनों के भितर पुर्ण किया जा सकता है.

    इमारत में 4 हॉल

    अस्पताल की इमारत में चार बडे हॉल के साथ अनेक कमरे है.एक हॉल में 125 से अधिक मरीज रहे सकते है.अन्य छोटे हॉल में भी मरीजों को रखने की व्यवस्था की जा सकती है. अस्पताल की पुर्ण इमारत का उपयोग होने पर 1 हजार से अधिक मरीजों के लिये जम्बों अस्पाताल का निर्माण हो सकता है. जिला अस्पताल को लगकर अस्पताल का निर्माण होने के कारण अस्पाताल के चिकित्सक यहां सेवा दे सकते है.

    शहर में होगा जेम्बों अस्पताल

    वर्तमान में कोविड मरीजों पर सावंगी, सेवाग्राम व जिला अस्पताल में उपचार किया जाता है.सावंगी व सेवाग्राम का अस्पताल शहर से करीब 7 किमी की दुरी पर है. तथा प्रशासन ने हाल ही में भुगाव में जेम्बों कोविड अस्पताल निर्माण की घोषणा की है. यह भी अस्पताल शहर से करीब 8 किमी दूरी पर है. तिनों बडे अस्पताल  शहर के बहार होने से मरीज को समय पर यहां पहुंचाने तथा परिजनों को जाने के लिये दिक्कत होती है.ऐसे परिस्थिती में महिला अस्पताल के लिये राशी की प्रावधान किया गया तो एक सरकारी अस्पताल स्थायी रूप से   निर्माण हो सकता है.

    जेम्बों अस्पताल की राशी खर्च हो महिला अस्पताल पर

    भुगाव के 1500 बेड के अस्पताल के निर्माण पर करोडों रूपयों की राशी खर्च होनीवाली है.यही राशी महिला अस्पातल पर खर्च की गई तो मरीजों एक अच्छा स्थायी अस्पताल मिल सकता है.भुगाव के जेम्बों अस्पताल के लिये स्कुल व कॉलेज की इमारती अधिग्रहित की गई है.आनेवाले दिनों में स्कूल कभी भी शुरू हो सकती है.ऐसे में यह व्यवस्था केवल समय के अनुसार होगी.परंतु महिला अस्पताल निरंतर सेवा में रहेगा.

    आक्सीजन भी जल्द उपलब्ध होगा

    महिला अस्पताल में कोविड अस्पताल बनाया गया तो यहां सभी साधन सुविधा आसानी से उपलब्ध होगी.अस्पताल की इमारत दक्षिण व पश्चिम रेलवे लाईन से सटकर होने के कारण रेलवे से भी आक्सीजन की सप्लाई की जा सकती है.उसी तरह भुगाव की उत्तम कंपनी  अस्पताल से केवल 6 किमी दूरी है. तथा देवली की महालक्षमी कंपनी व आदित्य एअर प्राक्डट कंपनी भी केवल 12 किमी की दुरी पर होने से आसानी से आक्सीजन उपलब्ध हो सकता है.