Strike Logo

वर्धा. शराब के कारण अनेकों के परिवार बर्बाद होने से शराब बिक्री रोकने की मांग महिला तथा युवकों की ओर से जा रही है. शराब व्यवसाय के खिलाफ लड़ने वाले युवकों ने रविवार को रोजगार देने की मांग की. आंदोलन में हाथ में फलक लेकर प्रशासन का ध्यानाकर्षण किया. सेवाग्राम परिसर में बड़े प्रमाण में शराब बिक्री हो रही है, जिससे अनेक परिवार बर्बाद हो रहे हैं. ऐसे में शराब बंदी के लिए महिलाएं कार्यरत है, जिसमें कुछ युवक भी सहयोग कर रहे हैं. सेवाग्राम ग्रापं के सदस्य भारत कडू के नेतृत्व में शराबबंदी महिलाओं की बैठक ली गई. इसमें बापू की 150 वी जयंती प्रित्यर्थ सेवाग्राम में जून के आखरी सप्ताह में कुमकुम बचाव-परिवार बचाओ सम्मेलन तथा महिला आंदोलन की दिशा तय करने का निर्णय लिया गया.

शराब बिक्री रोकने का प्रयास करनेवाले युवकों को रोजगार दिलाने के लिए प्रयास करने का निर्णय लिया. अवैध शराब से मरने वाले व्यक्ति के परिवार को शासन द्वारा 5 लाख की मदद देने, रोजगार देने या प्रतिमाह 6 हजार रुपए की मदद देने, सोनलापुर के अंकुश सयाम व रामाजी सलाम इन पिता और पुत्र की अवैध शराब से मृत्यु हुई थी, उन्हें मदद देने की मांग की गई. इसके लिए गठित अस्थायी समिति के अध्यक्ष भारती रुपेश कडू, सचिव दिनेश गणवीर, सदस्य गीता कुमरे, मंदा कापसे, रशिदा सौदागर, शोभा चौधरी, कमला येसनपुरे, धनराज बलवीर, रुपेश कडू, लहू सयाम, जालंधरभाई के नेतृत्व में आंदोलन किया गया.