अभियंता बना फल बिक्रेता, युवाओं के सामने निर्माण किया आदर्श

वर्धा. सेलू तहसील के आमगाव (मदनी) निवासी किसानपूत्र ने बिकट स्थिति में तकनीकी अभियंता की पढाई पूर्ण की़ उसने नोकरी के लिए प्रयास किए, परंतु उसे नोकरी नहीं मिली़ इस बात से हताश न होते हुए युवा अभियंता ने फल बिक्री का निर्णय लिया है़ वर्धा शहर के मुख्य मार्ग पर फल बिक्री की दूकान लगानेवाले इस अभियंता युवक ने समाज के सामने आदर्श खडा किया़ 

बता दे कि, किसान संगठन के कार्यकर्ता महादेव गोहो के बडें पुत्र अक्षय गोहो ने अत्यंत बिकट स्थिति में मेकॅनिकल इंजिनिअर की पढाई पूर्ण की़ हरसंभव प्रयास करने पर भी उसे नोकरी नहीं मिली़ परंतु इस बात से अक्षय हताश नहीं हुआ़ उसने अन्य व्यवसाय शुरु करने का मन बना लिया़ अत्यंत बिकट स्थिति से मार्ग निकालते हुए उसने फल बिक्री करने का निर्णय लिया़ अक्षय ने वर्धा के मुख्य मार्ग पर स्थित पुराना आर्वी स्टैन्ड परिसर में फल बिक्री की दूकान लगायी है़ इसके जरिए जो भी कमाई हो रही, उसे पा कर वह राहत महसूस कर रहा है़  उच्चशिक्षीत होते हुए भी इस अभियंता किसान पूत्र ने मेहनत का कोई भी काम छोटा या बडा नहीं होता, यह संदेश समाज को दिया.

साथ ही उच्च शिक्षा प्राप्त कर नोकरी न मिलने पर हताश होकर बैठनेवाले युवाओं के सामने एक आदर्श खडा किया़  24 सितम्बर को किसान संगठन के मधुसूदन हरणे, प्रभाकर झाडे, दत्ता राऊत, सतीश दानी, हेमराज इखार, धोंडबाजी गावंडे, उल्हास कोटामकर, प्रकाश ढोक, गणेश मुटे व माधुरी पाझारे आदि ने अक्षय की दूकान को भेंट देकर उसकी हौसलाअफजाई की़ साथ ही दूकान से फल की खरिदारी भी की़