Sai Mandir and Giragd Dargah

    वर्धा. कोरोना संक्रमण के कारण 31 मार्च तक आस्थास्थलों पर रोक लगाई गई है. प्रशासन के आह्वान के अनुसार धार्मिक स्थलों के प्रमुखों ने यह निर्णय लिये जाने की जानकारी निवासी जिलाधिकारी अर्चना मोरे ने दी. इसके तहत 31 मार्च तक जिले के प्रमुख मंदिरों के साथ सभी धार्मिक स्थल बंद रहेंगे. उक्त कार्यकाल में केवल सीमित व्यक्तियों की उपस्थिति में पूजा अर्चना होगी. बढ़ते मरीज व मंदिरों में होने वाली भीड़ के कारण संक्रमण फैलने का डर होने से प्रशासन ने सभी धार्मिक स्थलों के प्रमुखों की बैठक शनिवार को बुलाई थी, जिसमें करीब 35 प्रतिनिधि उपस्थित थे.

    इसमें जिलाधिकारी प्रेरणा देशभ्रतार, निवासी जिलाधिकारी अर्चना मोरे, अपर पुलिस अधीक्षक यशवंत सालुंके, वर्धा नप के मुख्याधिकारी विपीन पालीवाल, साईं मंदिर के सचिव सुभाष राठी, आजनसरा मंदिर के अध्यक्ष विजय पर्बत, गिरड दरगाह कमेटी के अध्यक्ष, टाकरखेड़ा मंदिर के प्रतिनिधि समेत अन्य प्रमुख मंदिरों के प्रतिनिधि उपस्थित थे .

    प्रशासन के आह्वान पर निर्णय

    मंदिरों में दर्शन के लिये भीड़ होने से संक्रमण फैलने से रोकने भीड़ पर काबू पाने का सवाल प्रशासन ने उठाया था. इस पर कुछ मंदिरों के प्रमुखों ने भीड़ कम होने की जानकारी दी तो कुछ ने श्रद्धालुओं रोकना कठिन होने की बात कही. आस्था का विषय होने से मंदिर प्रबंधन उन पर अंकुश नहीं लगा सकता . मंदिर दर्शन के लिये बंद रखना एकमात्र पर्याय होने की बात कही.    

    भीड़ टालने लिया फैसला 

    प्रशासन ने मंदिरों में भीड़ कम हो इसके लिए बैठक में आह्वान किया थ, जिसे प्रतिसाद देते हुए वर्धा का साईं मंदिर श्रद्धालुओं के लिये 31 मार्च तक बंद रखने का निर्णय लिया गया है. गेट बंद होने के कारण श्रद्धालु गेट के पास से दर्शन करके लौट जाते है. उन्हें भीतर प्रवेश वर्जित है.

    -सुभाष राठी, सचिव साईं मंदिर, वर्धा.

    आजनसरा का मंदिर किया बंद 

    प्रशासन के आह्वान के अनुसार आजनसरा स्थित संत भोजाजी महाराज मंदिर 31 मार्च तक श्रद्धालुओं के लिये बंद किया गया है. भोजन बनाने पर भी पाबंदी लगाई गई है. बैठक में बड़े मंदिरों में भीड़ होने उन्हें बंद रखने की सूचना की गई थी. प्रशासन ने श्रद्धालुओं को रोकने के लिए पुलिस बंदोबस्त लगाना जरूरी है.

    -विजय पर्बत, अध्यक्ष-भोजाजी महाराज देवस्थान.   

    गिरड का दरगाह भी बंद रहेगा 

    प्रशासन की सूचना के अनुसार फरीदबाबा दरगाह 31 मार्च तक बंद रखने का निर्णय लिया गया है. भोजन कार्यक्रम पर भी पाबंदी लगाई गई है.

    -करीमउद्दीन काजी, अध्यक्ष-दरगाह कमेटी.

    सुरक्षा के मद्देनजर स्वयं निर्णय लिया

    सभी के स्वास्थ्य की सुरक्षा कायम रखने 31 मार्च तक चर्च बंद रखने का निर्णय हमने स्वयं लिया है. कोरोना संक्रमण तेजी फैल रहा है. उसे रोकना आवश्यक है.

    -फादर राजू जोसेफ.

    गुरुद्वारा बंद रहेगा

    प्रशासन की भूमिका को हमारा हमेशा सहयोग रहा है. आम आदमी की सुरक्षा की दृष्टि से गुरुद्वारा बंद रखने का निर्णय लिया गया है. संक्रमण के कारण यह निर्णय लिया गया है. जिसका सभी सन्मान करते है.

    -सुरेश पंजवानी अध्यक्ष-पू. सिंधी जनरल पंचायत.