Teacher suspended, sent objectionable statement on WhatsApp

  • CEO डा. ओम्बासे ने जारी किए आदेश

कारंजा-घा. तहसील के येनगांव व किन्हाला में उजागर हुए मनरेगा भ्रष्टाचार मामले में ग्रामसेवक अविनाश कांबले व विजय बन्नगरे पर निलंबन की कार्रवाई की गई. उक्त आदेश गुरुवार को जिप के सीईओ डा. सचिन ओम्बासे से जारी किए है.

येणगांव ग्रापं अंतर्गत पगडंड़ी मार्ग के कार्य पर बड़ी मात्रा में भ्रष्टाचार हुआ था. बाहरी मजदूरों का मस्टर पर पंजीयन किया गया. पश्चात दूसरे व्यक्ति के बैंक खाते से फीड कर फर्जी मजदूर बताकर राशि ऐठी गई थी. पंचायत व जिप प्रशासन की आंखो में धूल झोंककर 7 लाख 35 हजार 455 रुपयों की हेराफेरी हुई थी. इस संबंध में जांच रिपोर्ट सीईओ को भेजी गई थी.

इसमें ग्रामसेवक विजय बन्नगरे दोषी पाये जाने से उनपर निलंबन की कार्रवाई की गई. निलंबन काल में उनका मुख्यालय सेलू पंचायत समिति रखा गया है. संबंधीत बीडीओ के अनुमति के बिना वें मुख्यालय नहीं छोड सकते, ऐसा भी आदेश दिया गया है. दूसरी ओर किन्हाला के ग्रामसेवक अविनाश कांबले पर भी निलंबन की कार्रवाई की गई.

मजदूरों के नाम के आगे अलग-अलग व्यक्ति के खाता क्रमांक दर्ज करना, निधी वितरण में गड़बड़ी, हाजरी पत्रक ग्रापं में उपलब्ध नहीं होना, पगडंड़ी मार्ग की मरम्मत सहित अन्य गंभीर आरोप थे. उन्होंने करीब 1 लाख 20 हजार 980 रुपयो का निधि नियमबाह्य तरीके से कमाई थी. ग्रामसेवक कांबले दोषी पाये जाने से सीईओ ने उन्हें  भी निलंबीत कर दिया. दोनो मामलों में कारंजा पुलिस में मामला दर्ज किया है. इसमें उचित जांच करने पर बड़ी मच्छलियां भी हाथ लगने की संभावना है.