File Photo
File Photo

    कारंजा घाड़गे (सं). इस वर्ष शुरूआत में मृग की अच्छी बारिश होने से किसानों ने बुआई की, जिससे फसल भी अंकुरित हो गई. परंतु उसके बाद बारिश गायब होने से सोयाबीन पर खोड मक्खी का प्रकोप दिखायी दे रहा है. कृषि विभाग ने खेत की फसलों का निरीक्षण कर किसानों को मार्गदर्शन किया.

    तहसील कृषि अधिकारी, मंडल अधिकारी, कृषि सहायक ने फसल का निरीक्षण किया. पश्चात विविध प्रतिबंधात्मक उपाय योजना बताई. खोड मक्खी नियंत्रण के लिए आवश्यक उपाय योजना संबंधित जानकारी दी. तहसील कृषि अधिकारी पीडी गुल्हाने ने कारंजा, नागलवाड़ी, राजणी गांव के सोयाबीन फसल का निरीक्षण किया, जिसमें फसल पर खोड मक्खी का प्रकोप दिखायी दिया. 

    इस तरह करें कीटनाशक का छिड़काव 

    अल्प प्रमाण में खोड मक्खी का प्रकोप होने से तुरंत निबोंली अर्क का छिड़काव करने का आह्वान किया. अधिक प्रकोप होने पर थायमिथोक्झान 12.6 फीसदी, लाम्ला सायहैलोध्रीन 1.5 फीसदी से 2.5 मिली 10 लीटर या इथिऑन 50 फीसदी, ईसी 30 फीसदी 10 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करने का आह्वान किया.