ड्राई जोन के गांवो का समावेश सेमी ड्राई जोन में करें

  • पंस सदस्य ईश्वर वरखड की मांग

आष्टी शहीद. आष्टी पंचायत समिति में विधायक दादाराव केचे की अध्यक्षता में जलकिल्लत समीक्षा बैठक ली गई. जिसमें विविध प्रश्नों पर चर्चा हुई. इस सभा में ड्राई जोन का मुद्दा प्रभावी रहा. पंचायत समिति सदस्य ईश्वर वरकड ने ड्राई जोन के गांवो को सेमी ड्राई जोन में समावेश करने की मांग की.

तहसील के बोरखेडी, बांबर्डा, थार, चामला, आबाद किन्ही, मोई, पांढुर्णा, धाडी, साहुर, मानिकवाडा, तारासावंगा, दुग्रवाडा, वर्धपुर, वडाला, झाडगांव, बोरगांव, टुमनी, पोरगव्हाण, पंचाला, पिलापुर में किसान सिंचाई करने के लिए कुएं की प्रतिक्षा में है. धडक सिंचाई कुआ योजना, मनरेगा कुआं योजना, बाबासाहब आंबेडकर कुआ योजना किसानों को मिले, इस लिए पंचायत समिति से आवेदन मांगे गए थे. किसानों ने दस्तावेजों की पूर्ति की. करीब 250 कुएं मंजुर हुए. परंतु मंजुर लाभार्थी 300 से अधिक है. शासन परिपत्रक के तहत यह गांव ड्राई जोन में आने की जानकारी होकर मंजुर कुओं का काम ठंडेबस्ते में है.

कुओं से वंचित किसानों को न्याय मिले, इस लिए पंचायत समिति सदस्य ईश्वर वरकड ने सभापति रहते जिप वर्धा में मुद्दा रखा था. परंतु अबतक उसपर ध्यान नही दिया गया. पंचायत समिति की मासिक सभा में प्रस्ताव लेकर शासन की ओर साहुर जिप सर्कल के गांव ड्राई जोन से निकालने की मांग की है. वर्धपुर, वडाला, सत्तारपुर, बोरगांव, साहुर, धाडी, पिलापुर, झाडगांव इन गांव में दस हाथ कुआं खोदने पर पानी लगता है. गांव के आसपास अपर वर्धा बांध है.

आवश्यक पानी संचय होकर भी यह क्षेत्र ड्राई जोन में कैसे? ऐसा प्रश्न ईश्वर वरकड ने उपस्थित किया. जलापूर्ति अभियंता कालबांडे, जिप ग्रामीण जलापूर्ति योजना के प्रियंका वाठ को ड्राइजोन संबंधित जानकारी दी. यह क्षेत्र ड्राईजोन से निकालकर सेमी ड्राईजोन में समावेश करने की मांग की. विधायक दादाराव केचे यह मुद्दा शासन दरबार में रखें तथा जिप अध्यक्ष सरिता गाखरे को भी सिफारिश करने की मांग की.