कलावंतो ने दिया दस दिन का अल्टीमेटम

  • अन्यथा अखंड भजन सत्याग्रह की चेतावनी

वर्धा. कोरोना संक्रमन के चलते लॉकडाऊन से संगीत कलावंतों पर आर्थिक संकट आन पडा है़ सांस्कृतिक कार्यक्रम, संगीतक्लास बंद होने से उपजिविका नहीं हो पा रही है़ प्रशासन व सरकार इस ओर गंभीरता से देखते हुए उचित निर्णय ले, ऐसी मांग वर्धा जिला संगीत कलोपासक संघ ने की़ दस दिनों के भितर मांगो पर विचार नहीं किया गया तो जिलेभरे के सैकडो कलावंत सरकार के खिलाफ आक्रोश मोर्चा निकालकर अखंड भजन सत्याग्रह आंदोलन करेंगे, ऐसी जानकारी संघ के पदाधिकारियों ने पत्रपरिषद में दी़ 

सरकार ने अनलॉक में होटल, वाईनबार, प्रतिष्ठान, चायटपरी, मटन बिक्री सहित व्यापार, उद्योगो को अनुमति प्रदान की़ परंतु सांस्कृतिक कार्यक्रम, भजनसंध्या, संगीत क्लास पर पाबंदी बनी हुई है़ इससे छोटेबडे कलाकार आर्थिक संकट में आ गए है़ जिले में छोटेबडे 40 हजार के करीब कलावंत है़ अनेको की उपजिविका इसी के भरोसे चलती है़ अपनी मांगों को लेकर भीकमांगो आंदोलन, भजन सत्याग्रह, बार बार निवेदन पेश किये गए़ परंतु कोई हल नहीं निकला़ समुचे राज्य में कलाकारो की यही स्थिति बनी हुई है़ सरकार ने कलावंतों की प्रमुख तीन मांगों पर विचार करना चाहिए़ सांस्कृतिक कार्यक्रमों पर बंदी हटायी जाए़ शासकीय नियमानुसार घरैलु, सार्वजनिक ठिकाणो पर संगीत कार्यक्रम की अनुमति प्रदान करें, नियमों के आधिन रहकर संगीतक्लास को अनुमति दे, ऐसी मांग जिलाधिकारी के माध्यम से भेजे गए निवेदन में की गई है़ दस दिनों के भितर मांगों पर गंभीरता से विचार नहीं किया गया तो तीव्र आंदोलन की चेतावनी दी गई़ पत्रपरिषद में कलोपासक संघ के सलाहगार संजय इंगले तिगांवकर, अध्यक्ष श्याम सरोदे, सचिव किरण पट्टेवार, कार्याध्यक्ष रवि खाडे, अनिल दाऊतखानी, सुरेश पट्टेवार, शंकर तिखे, किशोर काले सहित अन्य सदस्य उपस्थित थे़