Knock on Collectorate of Janakranti Army

वर्धा. मातंग समाज पर हो रहे अन्याय तथा अन्य महत्वपूर्ण मांगों को लेकर जनक्रांति सेना ने सोमवार, 29 जून को कलेक्ट्रेट पर दस्तक दी. महत्वपूर्ण मांगों का निवेदन जिला प्रशासन को सौंपा गया.कलेक्ट्रेट के समक्ष आंदोलनकारियों ने घोषणाबाजी की.दुनियाभर में कोरोना ने हाहाकार मचा रखा है. परिणामवश सरकार ने लॉकडाऊन घोषीत कर विवाह समारोह व कार्यक्रमों पर पाबंदी लगा दी है. इससे मातंग समाज के बैंड व्यावसायीयो पर संकट छा गया है. समाज के पास काम न होने से उनके परिवार रास्ते पर आ गए है. परिणामवश मातंग समाज कलावंतो को लोकशाहीर अण्णाभाऊ साठे जन्मशताब्दी उपलक्ष्य महाराष्ट्र सरकार ने सौ करोड रुपए घोषीत किये थे.

यह राशी बैंड कलावंत तथा व्यावसायीयो पर खर्च करें. विवाह समारोह में बैंड बजाने दस लोगो को अनुमति दे. बिजली बिल भरने सख्ती न करें. सहित अन्य मांगों पर सरकार का ध्यान खींचने जनक्रांती सेना ने मोर्चा निकाला़ स्थानीय छत्रपति शिवाजी महाराज चौराहे से निकले मोर्चा ने कलेक्ट्रेट पर दस्तक दी़ जिलाधिकारी को मांगों का निवेदन सौंपने के बाद परिसर में घोषणाबाजी की गई़ मोर्चा में छत्रपति संगठन के कपील पडधान, जिलाध्यक्ष सुशांत खडसे, भिम आर्मी के आशीष सोनटक्के, उपाध्यक्ष प्रसाद कोटगिरवार, विलास बावणे, अनिल बावणे, अमोल जाधव, संगम फोडेकर, कार्तिक पाठक, विक्की हातागले, आकाश खडसे, मुकेश ठाकुर, अभिषेक धुर्वे, अभिजीत बन्सोड, बंटी रंगारी, शशांक भगत, गजानन ससाने सहित असंख्य कार्यकर्ता शामील हुए थे़