किसानों को तुरंत कर्ज उपलब्ध करें – विधायक डा़ भोयर

  • सेलू में बैंक अधिकारियों की ली बैठक
  • प्रशासन देंगे दस्तावेज

सेलु. किसानों को दस्तावेज लाने का आग्रह न करते हुए राजस्व विभाग ने दिये आदेश का पालन कर फसल कर्ज तुरंत उपलब्ध करें, ऐसे निर्देश विधायक डा़ पंकज भोयर ने सेलू तहसील के बैंक अधिकारियों को दिये. गुरुवार को सेलू स्थित पंचायत समिति के सभागृह में फसल कर्ज वितरण संदर्भ में बैठक ली गई. बैठक में विधायक डा़ पंकज भोयर, उपिवभागीय अधिकारी सुरेश बगले, तहसीलदार महेंद्र सोनवणे, संबधित बैंक के प्रबंधक उपस्थित थे. विधायक डा़ पंकज भोयर ने खरीफ मौसम 2020-21 के फसल कर्ज वितरण का जायजा लिया. कछुआ गति से हो रहे कर्ज वितरण को लेकर नाराजगी व्यक्त की.

फसल कर्ज प्रकरण तुरंत मंजूर करने के आदेश दिये. छत्रपति शिवाजी महाराज कृषि सम्मान योजना व महात्मा ज्योतिबा फूले कर्जमाफी योजना अंतर्गत तहसील में अनेक किसानों का कर्ज माफ हुआ. कर्जमाफी वाले व नए कर्ज लेनेवाले किसानों को तुरंत कर्ज मंजूर करने के आदेश दिये. कोरोना से सबसे अधिक किसान प्रभावित हुए है. जिलाबंदी, कपास खरीदी में विलंब, लॉकडाऊन से दुग्ध उत्पादकों को आर्थिक नुकसान सहन करना पड रहा है. अनेक समस्याओं से किसान ग्रस्त है. जिस कारण उनकी सहनशक्ति खत्म होने का इंतजार न करें. 

कोरोना के दौरान सभी सेवा बंद रहते केवल खेती विषयक सेवा शुरु थी. जिससे उनका महत्व पता चलता है. आज तक समय में जब जब अर्थव्यवस्था कमजोर हुई, उस वक्त अर्थव्यवस्था को सुधारने का काम किसान व मजदूरों ने किया है. आज खेती ही देश की अर्थव्यवस्था को सुधार सकती है. बैंको ने भी किसानों को सहकार्य करना अपेक्षित है. बैंक में किसान, खेतमजदूर व सर्वसामान्य नागरिकों की भीड होती है.

ग्रामीण विभाग के बैंक का परिसर छोटा होने से किसान, मजदूरों को तपती धुप में इंतजार करना पडता है. जिस कारण बैंक परिसर में पंडाल डालकर पेयजल की व्यवस्था करें, ऐसी सूचना दी. किसान कर्ज संदर्भ में प्रशासकीय स्तर पर कुछ समस्या आती है तो उसकी जानकारी दें, हरसंभव मदद की जाएगी, ऐसा आश्वासन विधायक डा़ पंकज भोयर ने दिया. उस वक्त उपविभागीय अधिकारी सुरेश बगले ने बैंक से कर्ज मांगनेवाले किसानों की सूची गांव निहाय तहसीलदार की ओर इमेल पर भेजे. 24 घंटे के भीतर पूर्ण जानकारी बैंक को दी जाएगी. साथ ही कर्ज प्रकरण के लिए आवश्यक स्टाम्प पेपर बैंक को उपलब्ध  किये जाएंगे. जिस किसान के प्रकरण में समस्या है, उसके लिए तहसीलदार से सीधा संपर्क करें, ऐसी सूचना दी. कर्ज के लिए मूल्यांकन की आवश्यकता नही है. गांव स्तर पर किसानों की सूची तैयार करें, बैंक में सूचना फलक लगाए, किसानों की भीड न बढे, इसका प्रयास करें, किसान महत्वपूर्ण घटक होने से उन्हे परेशान न करें, ऐसी सूचना दी.