Prerna Deshbhratar

    वर्धा. राष्ट्रीय एकता की दृष्टि से ऐसे सभी गांव, बस्ती व सड़कों के नाम बदलने का निर्णय सरकार ने लिया है़ जातिगत नाम की बजाय महापुरुष व जनतंत्र मूल्यों से जूड़े नाम देने का निर्णय लिया है. इस संबंध में गुरुवार को जिलाधिकारी प्रेरणा देशभ्रतार की अध्यक्षता में गठित समिति की बैठक बुलाई गई थी़ इसमें ऐसे जातिगत नामवाले सभी गांव, बस्ती व सड़कों के प्रस्ताव शीघ्र पेश करने के निर्देश जिलाधिकारी ने दिए़ उक्त शासन निर्णयानुसार गांव, बस्ती व सड़कों के जातिगत नाम बदल कर नए नाम देने के संबंध में कार्यपध्दति शहरी क्षेत्र के लिए नगर विकास विभाग व ग्रामीण क्षेत्र के लिए ग्राम विकास विभाग निश्चित करेगा़ इस निर्णय पर तुरंत अमल करने के निर्देश दिये गए है़.

    समिति का गठन

    गांवों का निर्णय बदलने का निर्णय लेने के लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में समिति का गठन किया गया़  इसमें जिप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, जिला पुलिस अधीक्षक, पंस के गुट विकास अधिकारी, नपं व नप के मुख्याधिकारी, समाज कल्याण के सहा़ आयुक्त, जिला समाज कल्याण अधिकारी का समावेश है.  

    बदलेगा वायगांव (गोंड) का नाम

    गुरुवार को संपन्न हुई बैठक में समुद्रपुर तहसील के वायगांव (गोंड) का नाम बदलने की प्रक्रिया शुरू करने की जानकारी अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी सत्यजीत बडे ने दी़ साथ ही सभी गांव, बेडा, तांडा, बस्ती तथा सड़कों की जानकारी आगामी बैठक में पेश करने की सूचना जिलाधिकारी प्रेरणा देशभ्रतार ने की है़ बैठक में पुलिस अधीक्षक प्रशांत होलकर, समाज कल्याण सहा़ आयुक्त प्रसाद कुलकर्णी, जिला समाज कल्याण अधिकारी प्राजक्ता इंगले उपस्थित थे.