खोला जाली खाता फिर लगाया चुना

  • बैंक प्रबंधक का कारनामा,पुणा से धरदबोचा

वर्धा. बैंक के प्रबंधक के रूप में कार्यरत व्यक्ती ने जाली खाता तयार कर बैंक को चपत लगाई.तत्पश्चात पुलिस गुमराह करने के लिये अपनी पहचान छुपाते भागता रहा.अंतत: पुलिस ने आधुनिक तकनिकी का उपयोग कर उसे पुणा से गिरफ्तार किया.

जानकारी के अनुसार ईश्वर मारोतराव कुंभारे वर्धा के बैंक ऑफ बडोदा में प्रबंधक के रूप कार्यरत थे. इस दौरान 11 अगस्त 2014 से 9 मई 2015  के समयावधि में अपने पद गलत फायदा उठाते हुये  सौरऊर्जा  नाम से बैंक में खाता खोला. खाता खोलने के लिये उन्होंने जाली कागजात प्रस्तुत कर 60 हजार रुपयों की क्रेडिट लिमिट तयार कर यह राशी अलग अलग खातो में हस्तांतरीत  कर  बैंक को चपत लगाई. कुंभारे का कार्यकाल समाप्त होने के उपरांत प्रबंधक के रूप में मनिष अंबाडे ने पदभार स्विकारने के उपरांत यह जालसाजी सामने आयी. परिणामस्वरूप अंबाडे ने 9 जून 2017 को वर्धा शहर थाने में शिकायत की. वर्धा शहर पुलिस ने प्रकरण की जांच करने के बाद अपराध क्र 1382/20 कलम 420, 409, 408, 471 भादंवि के तहत मामला दर्ज किया. इसकी भनक लगने के कारण कुंभारे फरार हो गये.पुलिस कार्रवाई से बचने हेतू उन्होंने नागपुर स्थित मकान तथा प्रापर्टी बेचकर  परिवार समेत रफुचक्कर हो गये.

पुलिस को सुराग ना मिले इसके लिये कुंभारे अपना मोबाईल हैंडसेट व सिम निरंतर चेंज करते थे.जिससे उनका कोई अतापता नही मिल रहा था.परिणामवश पुलिस ने उनके परिवार के सदस्यों की जानकारी निकालकर उनकी रेकी शुरू की.साथ ही  आधुनिक तकनिक से उपनर पैनी नजर रखी.कुंभारे का पुत्र पुणा में नोकरी पर होने की जानकारी पुलिस के हाथ लगी. जिसके आधार पर आधुनिक तकनीक का उपयोग कर शहर पुलिस के दस्ते ने ईश्वर मारोतराव कुंभारे (59)को प्लॉट नंबर 1 रवी अपार्टमेंट के पिछे स्थित पिपले निलख, विनायक नगर तह. हवेली  जिला पुणा से 12 सितंबर को गिरफ्तार किया.आरोपी को 27 सितंबर तक न्यायालयीन कस्टडी दी गई है.उक्त कार्रवाई थानेदार योगेश पारधी के मार्गदर्शन में पीएसआय मांढरे, शिपाई रमेश वाघ, आकाश बांगडे ने की.