पुलिस सिपाही का सपना हुआ पूरा, राज्य सेवा परीक्षा उत्तीर्ण बेटा बना उपजिलाधिकारी

यवतमाल. पुलिस विभाग में कार्यरत रहे दिवंगत कैलासचंद्र जाधव का बेटा विरेंद्र जाधव का चयन हाल ही में घोषित राज्यसेवा परीक्षा के परिणामों में उपजिलाधिकारी के तौर पर किया गया. आर्णी तहसील के महालुंगी निवासी का परिवार है. विरेंद्र की प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा यवतमाल में हुई. उसने एसएससी परीक्षा 85.53 प्रश अंक समेत विवेकानंद विद्यालय से उत्तीर्ण की. एचएससी परीक्षा अमोलकचंद महाविद्यालय से 90.33 प्रश अंक लेकर उत्तीर्ण की. बी.टेक. (केमिकल) मुंबई के आईसीटी विश्वविद्यालय में पूर्ण किया.

पश्चात एक वर्ष एल. एंड टी. कंपनी में अभियंता पद पर काम किया. उसने नागपुर के वीएनआईटी से एम.टेक.(केमिकल) पूर्ण किया. इस दौरान पिता की मौत हुई. पिता का सपना था की बेटा बड़ा अफसर बने. पिता के सपने को पूर्ण करने के संकल्प के साथ वीरेंद्र ने कोई भी क्लास ज्वाइन न करते हुए घर में ही सेल्फ स्टडी शुरू की. उसके मामा राजपत्रित अधिकारी सुभाष राठोड़ ने उसे प्रोत्साहित किया. पहले प्रयास में राज्यसेवा आयोग की परीक्षा वीजे प्रवर्ग में  महाराष्ट्र से दूसरा स्थान वीरेंद्र ने प्राप्त करने से उसका चयन उपजिलाधिकारी के पद पर किया गया है.