अतिक्रमण से संकरित हुई सडके, यातायात अवरुद्ध, नागरिक परेशान

आर्वी. शहर के मुख्य मार्ग तथा नेहरु मार्केट में बढ रहे अतिक्रमण के कारण आम नागरिकों को काफी परेशानियों का सामना करना पडता है. नेहरु मार्केट में अनेक बार दुकानों के सामने खडी ग्राहकों के वाहनों से यातायात अवरुद्ध हो रही है. जिससे नागरिक के साथ यातायात विभाग का भी टेंशन बढ गया है.

मार्केट के दुकानदार अपनी दुकानों का सामान सडक पर ले आते है. अनेक दुकाने तो अंदर खाली पडी रहती है, परंतु उसका माल बाहरी सडक पर रहता है. जिससे सडक संकरित होकर वाहनों का आवागमन मुश्किल हो गया है. लेकिन इसके बावजूद भी नपा प्रशासन आंखे मुंदे बैठका है. कई बार नागरिकों की शिकायत के बाद भी ध्यान नही दिया जा रहा है. नेहरु मार्केट शहर का पूराना मार्केट है. जिसमें हॉटेज, सब्जी, अनाज, किराणा दूकाने है. किंतू दुकानदार सडक पर ही सामान सजा रहे है. फ्रूट तथा सब्जी की दूकाने तो अंदर से पूरी खाली रहती है. दोनों ओर आमने-सामने आयी दूकानों की वजह से नागरिकों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड रहा है.

नेहरु मार्केट में एक समय ट्रकों से माल लाया जाता था, किंतु आज दुपहिया तक आवागमन नही कर सकती. सब्जी मार्केट का हाल तो इतना बुरा है कि, दूकान को छोडकर तीन-चार फूट बाहर टोकरे भरकर रखे दिये जाते है. जिससे ग्राहकों का आनाजाना भी मुश्किल हो गया है. मेन रोड पर हाथबंडियों वालों ने कहर मचाकर रखा है. शिवाजी चौक से गांधी चौक की ओर जानेवाली सीमेंट सडक शहर का मुख्य मार्ग है. सरकारी कार्यालय, तहसील, उपविभागीय, राजस्व कार्यालय इसी रोड पर है. साथ ही पुलिस थाना, पोस्ट आफिस, कृषि उपज बाजार समिति, कॉलेज, स्कूल के लिए भी यही से गुजरना पडता है.

इस सडक पर नपा की पक्की दुकाने दोनो ओर है. फलस्वरुप ग्रामीणों को इसी सडक पर आकर किसी भी चीज की खरीदी करनी पडती है.  अनेक हाथबंडी वाले तथा अनेक अतिक्रमित दुकाने लगी रहती है. परंतु अतिक्रमण के कारण सडक से आवागमन करने में काफी परेशानी हो रही है. फिलहाल इतनी भीड है कि, कोविड के नियमों का उल्लंघन हो रहा है.