Blackmail
Representational Pic

  • हिंगनघाट की घटना, वसूली डेढ लाख से अधिक राशि
  • 3 के खिलाफ एफआईआर, पैसे नही मिलने से किया हमला

वर्धा. दुकान में मरम्मत के लिये लाये गये लॅपटॉप से ऐसा कुछ हाथ लगा की. उन्होंने अपराध का मार्ग स्विकारा. आपत्तीजनक फोटो वायरल करने के धमकी देकर युवक से डेढ लाख रूपये भी वसूले. किंतु बढती मांग से तंग आकर पीडित युवक ने पुलिस से गुहार लगाई. उक्त सनसनीखेज वारदात हिंगनघाट में सामने आते ही हडकम्प मच गया. पुलिस ने तीन युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें हिरासत में ले लिया़. इसमें 2 आरोपियों को 22 तक पुलिस कस्टडी सुनाई गई, जबकि 1 को बेल दे दी गई है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार हिंगनघाट के पिंपलगांव मार्ग संत तुकडोजी वार्ड निवासी रविंद्र रघुनाथ मोरे (23) यह आकाश जेस्वानी नामक युवक के साथ मिलकर लेआऊट बिक्री के काम करता था. दोनों के पास एक लॅपटॉप था. इसमें खराबी आने के कारण रविंद्र ने लॅपटॉप 25 जनवरी को अर्पित सुरजलाल बत्रा (36) के पास दुरुस्ती के लिए डाला था. कुछ दिनो बाद लॅपटॉप मांगने जाने पर अर्पित ने टालमटोल की. इसपर गुस्साए रविंद्र ने अर्पित को पुलिस में शिकायत करने की धमकी दी़ पश्चात अर्पित ने लॅपटॉप में कुछ आपत्तीजनक फोटो अपने मोबाईल में ले लिए. मार्च माह में रविंद्र से भेंट कर यह फोटो वायरल करने की धमकी दी.

इतना ही नहीं तो पैसो की मांग की. डर के मारे रविंद्र ने दो से तीन बार अर्पित को पैसे दिए़ इसमें अर्पित के साथ मुकेश सिसोदिया व निरज सैनी नामक साथी मिले हुए थे.तीनों ने रविंद्र से डेढ लाख से अधिक की राशी वसूली. तीनो इतने पर भी नहीं रुके़ उन्होंने बदनामी की धमकी देने का सिलसिला जारी रखा. 5 जून को रविंद्र के मोबाईल पर अश्लील मैसेज भेजकर उसे गालीगलौज की गई़ इस बात से तंग आकर अंतत: रविंद्र मोरे ने हिंगनघाट थाने में पहुंच कर आपबिती कथन की़ प्रकरण सामने आते ही शहर में खलबली मच गई.

हिंगनघाट पुलिस ने शिकायत के आधार पर गांधी वार्ड निवासी अर्पित सुरजलाल बत्रा (36) उसके साथी शास्त्री वार्ड निवासी निरज घनश्याम सैनी (21), कोचर वार्ड निवासी मुकेश सिसोदिया (22) के खिलाफ मामला दर्ज कर तीनों को गिरफ्तार कर लिया. न्यायालय में पेश करने पर अर्पित व मुकेश को 22 तक पीसीआर सुनाया गया. जबकि निरज सैनी को न्यायालय ने बेल पर छोडने की जानकारी है. प्रकरण में आगे की जांच थानेदार सत्यवीर बंडीवार के मार्गदर्शन में एपीआई पी़ एन. पाटनकर कर रहे है.