क्राइम मीटिंग में मिली शब्बाशी, अधिकारी व कर्मियों को मिले प्रशस्तीपत्र

वर्धा. जिला पुलिस अधीक्षक प्रशांत होलकर ने 9 दिसंबर को क्राईम मिटींग बुलाई थी. इसमें जिले की अपराधिक गतिविधियों पर चर्चा की गई. वहीं जटिल प्रकरणों की गुत्थी सुलझानेवाले अधिकारी व पुलिस कर्मियों की सराहना कर उन्हें प्रशस्तीपत्र देकर गौरवान्वित किया गया. 

बता दे कि, 8 नवम्बर को हिंगनघाट में चोरो ने शातीर चोरी को अंजाम दिया था. इसमें 38.46 लाख के माल पर हाथ साफ किया गया. इस प्रकरण में अपराध शाखा टिम ने उचित दिशा में जांच कर चोरो को दबोचा. उनसे 11.67 लाख का माल जब्त किया गया. इस कार्रवाई को अंजाम देनेवाले अपराध शाखा प्रमुख निलेश ब्राह्मणे सहित एपीआई प्रशांत पाटनकर, पीएसआई गोपाल ढोले, पुलिस कर्मी सलाम कुरेशी, प्रमोद जांभुलकर, गजानन लामसे, संतोष दरगुडे, स्वप्निल भारद्वाज को प्रशस्तीपत्र देकर सम्मानि किया गया.

इसके अलावा वर्धा, देवली, सेवाग्राम, तलेगांव थाना अंतर्गत दर्ज मामलो में साईबर सेल की टिम ने सराहनीय कार्य किया. फलस्वरुप पुलिस कर्मी निलेश कट्टोजवार, दिनेश बोथकर, विशाल मडावी, अनुप कावले, प्रकाश गुजर, अक्षय राऊत, अंकित जिभे को एसपी होलकर ने प्रशस्तीपत्र प्रदान किए. इसके अलावा तलेगांव में धारा 407, 427, 34 में ट्रक हादसा बताकर 40 लाख रुपयों के माल की हेराफेरी की गई थी. उक्त जटिल प्रकरण का कुछ ही दिनों में पर्दाफाश कर 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया. इसमें सहा. पुलिस निरीक्षक जितेंद्र चांदे, सहा. पुलिस निरीक्षक आशीष गजभिये, पुलिस उपनिरीक्षक हुसैन शहा, कर्मचारी गजानन बावणे, अमोल मानमोडे को सम्मानित किया गया.

पुलगांव में दर्ज प्रकरण में अज्ञात मृतक की शिनाख्त की गई. पश्चात हत्यारों को खुपिया जानकारी के आधार पर हिरासत में लिया गया. अनैतिक संबंधों के चलते इस हत्याकांड को अंजाम देने की बात सामने आयी. पुलगांव पुलिस ने दोनो आरोपियों को आर्वी पुलिस के हवाले कर दिया. इसमें पुन: एक महिला आरोपी को गिरफ्तार किया. फलस्वरुप पुलगांव के थानेदार रविंद्र गायकवाड, कर्मचारी खुशालपंत राठोड, अशोक रामटेके को प्रशस्तीपत्र प्रदान किये गए. आर्वी थाना अंतर्गत हत्या प्रकरण में न्यायालय में समय समय पर गवाहों को पेश करणे तथा पैरवी अधिकारी के रुप में काम संभालनेवाले एएसआई अजय खांडरे को एसपी ने प्रशस्तीपत्र प्रदान किया.