Coronavirus

  • कोरोना की दूसरी लहर से बच्चों को खतरा बढ़ा, सतर्कता जरूरी

वर्धा. जिले में गत दो माह से कोरोना संकमण ने दहशत मचा रखी है. दूसरी लहर ने प्रशासन की नींद उड़ा रखी है़ जिले में अब तक 12 वर्ष आयु गुट के निचे वाले 636 बच्चे कोरोना संक्रमित होने की जानकारी है़ दूसरी लहर का कोरोना वायरस बच्चों के लिए बहुत ही खतरनाक साबित होने की आशंका जताई जा रही है. रिणामवश स्वास्थ्य प्रशासन ने बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर सतर्कता बरतने का आह्वान नागरिकों से किया है.

जिले में 10 मई को कोरोना का पहला मरीज आर्वी तहसील के हिवरा तांडा में मिला था़ इसके बाद से जिले में बाधितों की संख्या बढ़ती गई़ मात्र नवंबर व दिसंबर माह में कोरोना बाधितों की संख्या में कमी देखने मिली़ इसलिए प्रशासन ने राहत की सांस ली थी़ फरवरी व मार्च 2021 में कोरोना ने फिर सब की नींद उड़ा दी है़ रफ्तार से कोरोना मरीज मिल रहे है.

जानलेवा साबित हो रहा वायरस 

कोरोना की दूसरी लहर का वायरस जानलेवा साबित हो रहा है़  गत दो माह में मृतकों की संख्या भी काफी बढ़ गई है़  अब यह वायरस 12 वर्ष से कम आयु वाले बच्चों को बड़ी मात्रा में अपनी चपेट में लेने की गंभीर बात सामने आयी है़  इसलिए नागरिक खुद का और अपने परिवार का ध्यान रखे़  विशेष कर छोटे बच्चे व बुजुर्गों के स्वास्थ्य की गंभीरता से चिंता करने की अपील स्वास्थ्य प्रशासन ने किया है. 

1,226 मरीज बाहरी जिले के 

जिले में 21 मार्च तक कुल 17,789 कोरोना मरीज मिले है़ं  इसमें करीब 1,226 मरीज यह बाहरी जिले के बताये गए़  कोरोना की पहली लहर में सभी आयु गुट के नागरिक बाधित हुए थे़  परंतु इसमें छोटे बच्चों की संख्या कम थी़  परंतु, दूसरी लहर के वायरस ने बड़ी संख्या में बच्चों को अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया है़  यह बात स्वास्थ्य विभाग के ध्यान में आयी है़  इसलिए छोटे बच्चों के स्वास्थ्य पर गंभीरता से ध्यान देने की चेतावनी स्वास्थ्य प्रशासन ने दी है. 

292 बालिकाओं का समावेश

जिले में अब तक कुल कोरोना बाधितों में 12 वर्ष के भीतर आयु वाले 636 बच्चे शामिल है़  इसमें 344 बालक व 292 बालिकाओं का समावेश है़  इसके अलावा 12 वर्ष आयु के ऊपर 10,474 पुरुष तथा 6,679 महिला मरीजों का समावेश है.