सुरक्षित स्थल पर तीनों शावक, मादा तेंदुआ की गतिविधियों पर CCTV से नजर

    • किसानों में दहशत, वनविभाग दे रहा ध्यान

    कारंजा-घा़. मंगलवार को तहसील के शेलगांव (उमाटे) के आरक्षित जंगल क्षेत्र क्रमांक 121 में तेंदुए के तीन शावक पाये गए़  इन शावकों को आठ से दस दिन पहले जन्म देने की जानकारी है़  वनविभाग मादा तेंदुआ के गतिविधियों पर ध्यान रखे हुए है़ं  उसने अपने तीनों शावकों को कहीं सुरक्षित स्थान पर ले जाने की जानकारी है़  बता दें कि, शेलगांव उमाटे जंगल से सटे होने के कारण ग्रामीणों में दहशत व्याप्त है़.

    किसान मनोहर डोंगरे को उक्त शावक दिखाई देने से इसकी सूचना वनविभाग को दी गई़  तेंदुआ व उसके शावकों पर ध्यान रखने के लिए वन विभाग ने परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगा दिए है़ं मादा तेंदुआ ने देर रात्रि अपने तीनों शावकों को पुराने स्थल से हिलाकर कहीं सुरक्षित रखने की हलचल कैमेरे में कैद हुई है़  कैमरे में तेंदुआ की सभी हरकत कैद हुई है़ भले ही इसमें शावक दिखाई नहीं दे रहे, परंतु उसने उसने शावकों को कहीं सुरक्षित स्थान पर रखा है, ऐसा दावा वनविभाग ने किया़  साथ ही उक्त शावकों की संख्या तीन होने की बात वन विभाग ने कही.

    शेलगांव उमाटे यह आरक्षित वन क्षेत्र क्रमांक 121 घने जंगल से घिरा है़ परिणामवश किसानों डर का माहौल बना हुआ है़  इन दिनों खेतीबाड़ी के काम होने से किसानों को खेतों में जाना पड़ता है़ परंतु मादा तेंदुआ के डर से किसान खेतों में जाने से कतरा रहे है़ं वहीं मादा तेंदुआ व उसके शावकों को किसी प्रकार की असुरक्षितता महसूस न हो, इसलिए वनविभाग पूरा ध्यान रखे हुए है़ं