Electricity Bill Center

  • बिजली केंद्र पर कर्मचारी की मनमानी

वर्धा. एक ओर बकाया बिजली बिल अदा करने के लिए महावितरण ग्राहकों से सख्ती कर रहा है. तो दूसरी ओर बिल अदा करने केंद्र पर पहुंचनेवाले ग्राहक को काऊन्टर से वापिस जाने पर मजबूर कर दिया. यह अजिबोगरीब वाकिया शहर के रामनगर स्थित केंद्र पर सामने आया. जहां 10 के सिक्के लेने से ऐतराज जताते हुए बिजली कर्मचारी ने ग्राहक को तीन बार वापिस लौटाने की जानकारी है.

जानकारी के अनुसार शहर से सटे सिंदी (मेघे) परिसर निवासी प्रवीण चुकेवार यह पानटपरी चलाता है. उसे कुल 14 हजार रुपए बिजली का बिल आया था़ मात्र रिडींग अधिक लिये जाने से बिल में 2 हजार रुपयों की कटौती की गई. परिणमावश उसे 12 हजार रुपए महावितरण को अदा करने थे. अब पानटपरी का व्यवसाय होने से उसके पास चिल्लर आना लाजमी है.

परिणामवश बिल अदा करने के लिए 4 हजार रुपए के 10 के सिक्के तथा 7 हजार रुपये 10 की नोट ऐसा कुल 12 हजार रुपए लेकर प्रवीण रामनगर स्थित बिजली केंद्र पर पहुंचा. परंतु केंद्र पर कार्यरत कर्मचारी ने चिल्लर राशी लेने से मना करते हुए प्रवीण को वापिस भेज दिया. पहली बार भिड होने से वापिस भेजा होंगा, ऐसा प्रवीण को लगा. इस लिए दूसरे दिन फीर एक बार प्रवीण केंद्र पर पहुंचा.

परंतु इस बार उसे चिल्लर नहीं ली जाएंगी, ऐसा साफ साफ कहकर वापिस भेज दिया़ इस बात से नाराज होकर चुकेवार ने महावितरण के अतिरिक्त अभियंता नरेश पारधी से मलकर उन्हें आपबिती बताई. परंतु वहां पर भी उसके हाथ निराशा लगी. बैंक में दस के सिक्के नहीं स्विकारे जाते, इस लिए केंद्रचालक ने मना किया होंगा, कुछ ऐसा जवाब उनसे मिला़ जब भारतीय अर्थव्यवस्था में 10 के सिक्के शुरु है, तो इन्हें बिजली केंद्र में क्यों नहीं स्विकारा जा रहा, ऐसा सवाल उपस्थित किया जा रहा है.

Rs 10 Coins and Notes

नहीं स्विकारी चिल्लर – चुकेवार

मेरा पानटपरी का व्यवसाय होने से प्रतिदिन चिल्लर राशी इकठ्ठा होती है. बिजली बिल में सहुलियत मिलेंगी, ऐसा लगा था़ परंतु ऐसा नहीं हुआ़ किसी तरह पाई पाई जमा कर बिल की राशी जमा की. परंतु तीन बार केंद्र पर पहुंचने के बाद भी वापिस लौटाया गया. दस के सिक्के नहीं स्विकारें जाएंगे, ऐसा बताया गया. महावितरण कार्यालय में पुछने पर ऐसा कोई नियम न होने की बात उन्होंने कही़ ऐसा हैं, तो फीर चिल्लर राशी क्यों नहीं स्विकारी जा रही. 

-प्रवीण चुकेवार, ग्राहक

बैंक नहीं स्विकारती सिक्के-पारधी

बिजली बिल भरना केंद्र पर आनेवाली राशी हमें बैंक में जमा करनी पडती है. बैंक में अधिक मात्रा में सिक्के रहने पर स्विकारें नहीं जाते. इस लिए बिजली केंद्र पर ग्राहकों से अधिक सिक्के नहीं लिये जाते. परंतु इस संबंध में शिकायत मिलने से सभी केंद्रों पर सिक्के स्विकारें जाने के निर्देश दिये गए है. साथ ही एसबीआई बैंक प्रबंधक से चर्चा कर इस समस्या का समाधान निकाला जाएंगा.

-नरेश पारधी, अतिरिक्त कार्यकारी अभियंता