jail

वर्धा. शहर के नामचिन डाक्टर ने उपचार के लिये आये मरीज के साथ ऐसा बर्ताब किया कि चिकित्सा क्षेत्र शर्मसार हुआ. डाक्टर की इस बात से आहत हुई महिला मरीज ने वकील समेत सिधे शहर पुलिस थाने में जाकर शिकायत दर्ज की. मेडिकल क्षेत्र से जुडा हुआ मामला होने के कारण पुलिस ने जांच के लिये रखा है. इस घटना के उपरांत मेडिकल क्षेत्र में चर्चाओं का बाजार गर्म हुआ है.

जानकारी के अनुसार पुलगांव निवासी 51 वर्षिय महिला मधूमेह से पीडित होने के कारण इलाज हेतू 26 अक्टूबर को वर्धा के एड.बी.जी. चौधरी मार्ग पर स्थित एक निजी अस्पताल में गई थी. उक्त अस्पताल में महिला नियमित तौर पर इलाज हेतू आती है. डाक्टर ने महिला मरीज की जांच पडताल करने के उपरांत उन्हें फंगल इनफेक्शन के लिये फ्लूकेम 150, एविल व सेंट्राजीन नामक दवाईं दी.

इस दौरान महिला मरीज शहर के दो नामचिन चिकित्सक की प्रिस्क्रीबशन दिखाकर किस दवाई से रिक्शन होती है यह बताया. 27 अक्टूबर को महिला ने दवाईं खाई. किंतु एक घंटे के उपरांत अचानक उन्हें तकलिफ शुरू हुई. होटो पर सुजन, छाले के साथ ही पांव में जलन शुरू हुई. जिससे चलना भी मुश्कील हुआ. परिणामवश महिला ने तुरंत चिकित्सक के अस्पताल में संपर्क किया. किंतु वहां उपस्थित नर्स डाक्टर के पास फोन पर बात करने के लिये समयावधि नही है, यहां आकर दिखाने के बात कहकर महिला से बदसलुकी करने की बात शिकायत में कही गई है.

शुक्रवार को महिला मरीज अपने रिश्तेदार एड. महिला के साथ दोपहर 12.15 बजे के करीब अस्पताल पहुंची़ महिला ने दवाई से हुए रिएक्शन के बारे में डाक्टर को जानकारी दी़ तत्पश्चात चिकित्सक ने पेनकिलर व अन्य चार गोलिया नर्स को देने के लिए कहा़ साथ ही स्टेराईड्स देने के लिए कहा़ स्टेराईड्स से रिएक्शन आने के कारण महिला के साथ आयी वकील ने महिला मरिज को स्टेराईड्स व पेनकिलर नहीं चलती है. इसके बदले में दूसरी दवाई देने के लिए कहा़ जिसपर डाक्टर ने गुस्से में आकर वकील महिला को ही दो टूक सुना दी़ इतना ही नहीं तो आज दिया हुआ प्रिस्क्रिबशन काट कर अभद्र व्यवहार किया़ इससे आहत हुई महिला ने शहर थाने में पहुंच कर चिकित्सक के खिलाफ अपनी शिकायत दर्ज की.

जांच में रखा गया मामला – थानेदार

गलत दवाई देने की बात महिला ने शिकायत में कही है. परंतु यह प्रकरण जिला शल्य चिकित्सक तथा मेडिकल कॉन्सिल से जुडा हुआ है. फिलहाल इस प्रकरण को जांच में रखा गया है. उचित जांचपडताल के बाद ही आगे की कार्रवाई होंगी.

-योगेश पारधी, थानेदार-वर्धा.